कमलनाथ ने हथियार डाले, बोले: सब मिलकर लड़ेंगे चुनाव

Saturday, August 5, 2017

उपदेश अवस्थी/भोपाल। खुद को मप्र कांग्रेस का चीफ एवं चुनाव में कांग्रेस का चेहरा घोषित करवाने के लिए छिंदवाड़ा सांसद कमलनाथ ने एड़ी चोटी का जोर लगाया लेकिन सफल नहीं हो पाए। अब उन्होंने हथियार डाल दिए हैं। अब जबकि उनके चेहरा बनने की संभावनाएं लगभग खत्म हो गईं हैं तो वो नया कार्ड खेल रहे हैं। छिंदवाड़ा से उन्होंने बयान जारी किया है कि मध्यप्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में किसी एक चेहरे से सफलता नहीं मिल सकती, सबको मिलकर चुनाव लड़ना होगा। तब ही बीते 14 साल में प्रदेश में हुए भ्रष्टाचार को खत्म किया जा सकता है और भाजपा सरकार से निपट सकते हैं। बता दें कि उनके अलावा ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम चल रहा है। कांग्रेस की गुटबाजी को छोड़ दें तो सिंधिया हर मामले में कमलनाथ पर भारी रहे हैं। 

कमलनाथ ने शुक्रवार को अपने संसदीय क्षेत्र छिंदवाड़ा में थे। यहां कमलनाथ का मीडिया मैनेजमेंट चलता है। प्रेस कांफ्रेंस में यहां पत्रकार अपने मन से सवाल नहीं पूछते। केवल वही सवाल पूछे जाते हैं जिनका इशारा मिल चुका होता है या फिर जिनको सुनकर कमलनाथ खुश हो जाएं। कहा जाता है कि ऐसे पत्रकार जो तीखे सवाल पूछते हैं कमलनाथ की प्रेस कांफ्रेंस में आमंत्रित ही नहीं किए जाते। 

कमलनाथ की दावेदारी के बेतुके आधार
दरअसल, कमलनाथ की दोवदारी के आधार ही बेतुके थे। उन्हे ही सीएम कैंडिडेट क्यों घोषित किया जाए इसके पीछे कुछ इस तरह के तर्क दिए जा रहे थे: 
क्योंकि वो कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हैं। 
क्योंकि कांग्रेस की गुटबाजी में वो सबको साथ लेकर चल सकते हैं। 
क्योंकि उनके पास बहुत सारा पैसा है। चुनावी खर्चों में पीछे नहीं हटेंगे। 
क्योंकि वो चुनाव मैनेजमेंट में माहिर हैं। आज तक कभी नहीं हारे। 
क्योंकि उनकी उम्र हो गई है, इसके बाद उनके पास दूसरा अवसर नहीं रहेगा। 

दरअसल, कमलनाथ की टीम में अच्छे बुद्धिजीवियों की भी काफी कमी है। वो एक बार भी यह प्रमाणित करने का प्रयास नहीं कर पाए कि किस तरह कमलनाथ, भाजपा के शिवराज सिंह चौहान पर भारी पड़ सकते हैं। कमलनाथ खुद सारे चुनाव जीते परंतु अपने समर्थकों को चुनाव जिताने का रिकॉर्ड काफी खराब है। सीएम कैंडिडेट वो होना चाहिए जिसके नाम पर विधायकों को भी वोट मिल जाए। कमलनाथ के पंडित यह भी साबित नहीं कर पाए कि वो ​आम जनता को किस तरह से प्रभावित करने की क्षमता रखते हैं, क्योंकि ऐसा कोई उदाहरण है ही नहीं, जबकि कमलनाथ ने आम जनता को प्रभावित करके परिणाम बदलवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हो। हालांकि भोपालसमाचार.कॉम की टोकाटाकी के बाद कमलनाथ ने शिवराज सरकार पर हमला करना जरूर शुरू कर दिया है परंतु यह प्रेक्टिस काफी देर से शुरू की गई है। निश्चित रूप से यह कांग्रेस के लिए फायदेमंद होगी परंतु चुनाव जिताने के लिए काफी तो फिलहाल पूरी कांग्रेस के पास ही मटीरियल नहीं है। सारे के सारे मप्र में उठ रही शिवराज सिंह विरोधी लहर पर सवार होकर सत्ता तक पहुंचने का प्लान बना रहे हैं। 

अब सवाल यह है कि कमलनाथ का ताजा बयान हाईकमान से मिले संदेश के कारण आया है या फिर वो 'खेल नहीं पाए तो खेल बिगाड़ेंगे' की तर्ज पर काम कर रहे हैं। 

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week