देश की औद्योगिक सेहत गिर रही है ?

Saturday, August 12, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन। देश की औद्योगिक सेहत गिरती जा रही है। औद्योगिक उत्पादन (इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन) के जून के आंकडे केन्द्र सरकार के कामकाज की बुरी तस्वीर पेशा कर रहे हैं। केन्द्रीय सांख्यिकी विभाग (सीएसओ) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन जून महीने में (निगेटिव) 0.1 प्रतिशत  की गिरावट आई है। जबकि एक साल पहले इसी माह यह 8 प्रतिशत बढ़ा था। अप्रैल-जून तिमाही में औद्योगिक उत्पादन वृद्धि घटकर 2 प्रतिशत रह गई जो कि पिछले साल समान तिमाही में 7.1 प्रतिशत रही थी। गौरतलब है कि मई के आर्थिक आंकड़ों में भी आईआईपी के आंकड़े बेहद कमजोर रहे। मई में इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन(आईआईपी) के आंकड़े अप्रैल के 3.1 के स्तर से गिरकर मई में महज 1.7 प्रतिशत ही दर्ज हुए।

आंकड़े निरंतर गिरे हैं। माह दर माह आधार पर जून में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की ग्रोथ 1.2 प्रतिशत से घटकर महज 0.4 प्रतिशत रही। माइनिंग सेक्टर की ग्रोथ मई के -0.9 फीसदी के मुकाबले -0.4 प्रतिशत हो गई। वहीं माह दर माह के आधार पर जून में पॉवर सेक्टर की ग्रोथ 8,7 प्रतिशत.से घटकर मात्र 2.1 प्रतिशत रही। वहीं माह दर माह आधार पर जून में कैपिटल गुड्स प्रोडक्शन -3.9 प्रतिशत  के मुकाबले –6,8 प्रतिशत  रहा। जून में कंज्यूमर ड्युरेबल्स का प्रोडक्शन –4.5 प्रतिशत से बढ़कर –2,1 प्रतिशत रहा। वहीं कंज्यूमर नॉन-ड्युरेबल्स का उत्पादन 7,9 प्रतिशत घटकर 4.9 प्रतिशत रहा।

मार्च 2017 में आईआईपी के आंकड़े 2,7 पर थे और अप्रैल के दौरान इसमें बढ़त दर्ज हुई थी, लेकिन फिर मई के आंकड़े सरकार को उद्योगों की कमजोर स्थिति को बयान कर रहे हैं। मई के आंकड़ों के मुताबिक माइनिंग सेक्टर में कम मांग और मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर में आउटपुट में गिरावट के चलते यह आंकड़े खराब रहे हैं। यह एक सर्वमान्य सत्य है देश में आर्थिक गतिविधि मापने के लिए इन आंकड़ों का सही तरह से प्रकट किया जाना जरूरी है।

केंद्र सरकार के केन्द्रीय सांख्यिकी विभाग (सीएसओ) द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक अप्रैल महीने के दौरान आईआईपी के आंकड़े 3,1 प्रतिशत थे जबकि मार्च में यह आंकड़े 2.7 प्रतिशत थे। गौरतलब है कि पिछले महीने और इस महीने आए ये आर्थिक आंकड़े इसलिए भी बेहद अहम हैं क्योंकि केन्द्र सरकार ने मई से इन आंकड़ों को मापने के लिए कीमतों का बेस ईयर 2004-05 से बढ़ाकर 2011-12 कर दिया था। इसी कारण, इस बार यह आंकड़े पुराने आंकड़े की अपेक्षा देश की इंडस्ट्रियल सेक्टर का ज्यादा सटीक आंकलन कर रहे हैं।
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।        
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


Popular News This Week

खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं