“बाबू भाई” के चुनाव में विघ्न ही विघ्न

Monday, August 7, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन। बाबू भाई उर्फ़ अहमद पटेल अगर इस बार राज्य सभा में चले गये, तो यह किसी आश्चर्य से कम नहीं होगा। कांग्रेस को अपने बंगलुरु रिटर्न विधायकों पर भरोसा नही है कि उनमे से कितने, अपना  वोट “बाबू भाई” को देंगे। उधर एनसीपी जो राष्ट्रपति चुनाव में कांग्रेस के साथ थी, ने भी अब पाला बदल लिया है। राष्ट्रपति चुनाव में गुजरात विधानसभा में पड़े कुल 181 मतों में से एनडीए के रामनाथ कोविंद को 132 और विपक्ष की उम्मीदार मीरा कुमार को 49 मत हासिल हुए। 182 सदस्यीय गुजरात विधानसभा में कांग्रेस के 57 विधायक थे, सत्तारूढ़ बीजेपी के 122, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के 2 और जेडीयू का 1 विधायक है। जेडीयू विधायक ने मतदान में हिस्सा नहीं लिया। एनसीपी ने मीरा कुमार का समर्थन किया था।

शंकर सिंह वाघेला के साथ कुछ विधायक कांग्रेस से पहले विदा ले चुके हैं। अब इस चुनाव में बंगलुरु से लौट रहे विधायकों के मत के प्रति भी कांग्रेस पूरी तरह आश्वस्त नहीं है। “नोटा” के मुद्दे पर कांग्रेस सुप्रीम कोर्ट में मात खा चुकी है। आश्चर्य इस बात का है कि देश की सबसे पुरानी पार्टी को इस बात की जानकारी ही नहीं थी कि नोटा का इस्तेमाल राज्य सभा के चुनाव में पिछले दो सालों से होता रहा है। शीर्ष अदालत ने भी कांग्रेस की ओर से पैरवी करने वाले वकीलों से यह जानना चाहा कि जब जनवरी, 2014 में नोटा का विकल्प राज्य सभा के चुनाव में लागू करने से संबंधित अधिसूचना चुनाव आयोग ने जारी की थी, तब आपने चुनौती क्यों नहीं दी? हालांकि शीर्ष अदालत राज्य सभा चुनाव में नोटा के विकल्प के संवैधानिक मुद्दे पर विचार करने के लिए राजी हो गई। इस बात से तो सहमत हुआ जा सकता है कि अप्रत्यक्ष चुनाव में नोटा के विकल्प के इस्तेमाल की कोई सार्थकता नहीं है लेकिन चुनाव आयोग की निष्पक्षता और स्वायत्तता पर सवाल उठाने का समर्थन नहीं किया जा सकता। चुनाव आयोग संवैधानिक संस्था है। उसे कोई सरकार अपनी मर्जी के मुताबिक हांक नहीं सकती है।

ये सारे गणित बताते है कि “बाबू भाई” के मामले में कांग्रेस का गणित फेल होता दिखता है। कारण साफ़ है कांग्रेस के नेताओं का होमवर्क का कमजोर होना। “ बाबूभाई” ने दिल्ली दरबार में अपने प्रभावशाली दिनों में गुजरात के विधायकों को सम्मान की दृष्टि से कभी नहीं देखा। उन्होंने इन विधायकों से एक निरंकुश शासक की तरह बर्ताव किया है। कांग्रेस के दबाव में भले ही विधायक वोट दें दे, पर ये वोट श्रद्धा और सम्मान का नही होगा। अभी तो बाबू भाई के चुनाव  में विघ्न ही विघ्न नजर आते हैं।
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।        
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week