जब तक टीचर भर्ती नहीं होती, IAS की पत्नि कॉलेज में फ्री पढ़ाएंगी

Wednesday, July 12, 2017

नई दिल्ली। भारत में 4377 आईएएस अफसर हैं परंतु कुछ गिने चुने ही होते हैं जो जनता के दिलों पर राज करते हैं। उत्तराखंड में रुद्रप्रयाग के डीएम मंगेश घिल्डियाल उनमें से हैं जो दिलों पर राज करते हैं। गर्ल्स इंटर कॉलेज में साइंस टीचर नहीं था। छात्राएं परेशान हो रहीं थीं। मंगेश ने तय किया कि जब तक नए टीचर की भर्ती नहीं हो जाती, तब तक उनकी पत्नि ऊषा घिल्डियाल क्लास लेंगी और इसके एवज में उन्हे कोई पारिश्रमिक नहीं दिया जाएगा। 

मंगेश कुछ दिनों पहले एक रूटीन चेक के लिए रुद्रप्रयाग के राजकीय गर्ल्स इंटर कॉलेज गए थे। वहां जाने पर उन्हें पता चला कि स्कूल में साइंस का कोई टीचर ही नहीं है। उन्होंने तुरंत इसका समाधान निकाला और अपनी पत्नी ऊषा घिल्डियाल से स्कूल में किसी शिक्षक की तैनाती होने तक पढ़ाने को कहा, पत्नी भी मान गईं और स्कूल की छात्राओं को उनकी साइंस की टीचर मिल गई। मंगेश की पत्नी ऊषा घिल्डियाल ने खुद पंतनगर यूनिवर्सिटी से प्लांट पैथलॉजी में पीएचडी किया है।

इस बारे में मंगेश से बात करने पर उन्होंने बताया, 'मैं रूटीन चेक पर जीजीआईसी गया हुआ था, वहां जाने पर पता चला कि छात्राओं को पढ़ाने के लिए कॉलेज में साइंस के टीचर नहीं हैं। मैंने पत्नी से बात की और चूंकि इन दिनों वह घर पर ही हैं, तो वह भी तैयार हो गईं। कॉलेज के प्रिंसिपल से जब इस बारे में बात की, तो उन्हें भी कोई आपत्ति नहीं थी और उन्होंने इस फैसले का स्वागत किया।'

मंगेश ने बताया, 'शासन स्तर पर टीचर की भर्ती की प्रक्रिया जल्द ही शुरू की जाएगी। तब तक मेरी पत्नी अवैतनिक रूप से वहां अपनी सेवाएं दे देंगी। 2011 बैच के IAS अफसर मंगेश ने UPSC की परीक्षा में पूरे देश में चौथी रैंक हासिल की थी। मंगेश ने हमेशा ही अपनी एक अलग छाप छोड़ी है। मई में जब उनका बागेश्वर जिले से ट्रांसफर हो रहा था, तो वहां के लोग विरोध में सड़कों पर उतर आए। जगह-जगह भारी विरोध प्रदर्शन हुए थे।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Trending

Popular News This Week