कानपुर के प्रख्यात शिवमंदिर में लगी है अंग्रेज अधिकारी की प्रतिमा

Friday, July 14, 2017

देश को आजाद हुए कई दशक बीत चुके हैं लेकिन आज भी अंग्रेज हुक्मरानों की छाप और निशानियां आज भी कहीं ना कहीं देखने को मिल ही जाती है। ऐसी ही तस्वीर कानपुर के भगवत दास घाट पर देखने को मिलती है। भगवत दास गंगा घाट पर शिव मंदिर में हिंदू-देवी देवताओं के बीच एक अंग्रेज अधिकारी जॉन स्टुअर्ड की मूर्ति मौजूद है। ऐसा माना जाता है कि वह भगवान भोलेनाथ से प्रेरित होकर शिव भक्त बन गया था। इसकी भक्ति देखकर स्थानीय लोगों ने इसकी मूर्ति स्थापित की होगी।

वहीं कुछ लोगों का मानना है कि मंदिर का निर्माण ही जॉन स्टुअर्ड ने कराया था। जिसने मंदिर के शिखर के पास देवी देवताओं के साथ अपनी मूर्ती भी लगा दी। बाद में उन्होंने यहां का स्वामित्व क्षेत्र के रहने वाले निषाद समाज के युवक को सौंप दी। घोड़े पर सवार जॉन स्टुअर्ड की मूर्ति भगवत दास घाट पर मौजूद शिव मंदिर की दीवार पर दूर से ही दिखाई देती है।

इस अष्टकोणीय मंदिर के बाहरी दीवार पर भगवान गणेश, मां दुर्गा, मां काली, भैरव बाबा, हनुमान जी की मूर्ति भी इस अंग्रेज शासक के साथ मौजूद है। कई बार मंदिर में अंग्रेज की प्रतिमा को गलत बताते हुए लोगों ने इस तोड़ने की भी कोशिश की लेकिन प्रतिमा को पूरी तरह से हटाए जाने के प्रयास सफल नहीं हुए। जब भी मंदिर का सौंदर्यीकरण होती है तो अंग्रेज शासक की मूर्ती का भी रंग रोगन किया जाता है।

मंदिर के पुजारी नारायण गुरु महापात्र ने बताया कि ये मंदिर कब बना ये तो पता नहीं है लेकिन लोगों का मानना है कि इस मंदिर का निर्माण जॉन स्टुअर्ड ने कराया, जो शायद कानपुर के प्रभारी रहे हों। हो सकता है भोले बाबा ने उनकी किसी मंशा को पूरा कर दिया हो। जिससे उन्होंने इस मंदिर का निर्माण करा दिया।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week