उत्तर कोरिया से नाराज ट्रंप ने चीन को फटकार लगाई, बमवर्षक विमान ​तैनात

Monday, July 31, 2017

नई दिल्ली। उत्तर कोरिया के कारण अमेरिका चीन से नाराज हो गया है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन को फटकार लगाते हुए कहा है कि उत्तर कोरिया को लेकर चीन के रख से उन्हें धक्का लगा है। ट्रंप नाराज हैं कि अमेरिका ने चीन को व्यापारिक अवसर दिए परंतु चीन ने उत्तर कोरिया के मामले में कोई कदम नहीं उठाया। ट्रंप का यह बयान उत्तर कोरिया के बैलेस्टिक मिसाइल परीक्षण के बाद आया है। उत्तर कोरिया ने अमेरिका तक मार करने में सक्षम मिसाइल का शुक्रवार को दूसरी बार सफल परीक्षण किया था। अमेरिका ने भी बमवर्षक विमान तैनात कर दिए हैं। 

चीन व्यापार के नाम पर अरबों डालर ले गया
ट्रंप ने कहा कि अब वह उत्तर कोरिया को मनमानी करने के लिए ज्यादा मौका नहीं देंगे। अपने देश के पूर्व नेताओं को मूर्ख बताते हुए ट्रंप ने कहा कि उन्होंने हर साल चीन को व्यापार के नाम पर अरबों डॉलर दे दिए जबकि चीन ने अमेरिका के लिए उत्तर कोरिया के साथ कुछ भी नहीं किया। उस दौरान उत्तर कोरिया को लेकर केवल बातचीत हुई और कुछ नहीं हुआ। उत्तर कोरिया द्वारा तीन जुलाई और 28 जुलाई को अंतर महाद्वीपीय बैलेस्टिक मिसाइलों का जो सफल परीक्षण किया, उनसे ही अमेरिका को खतरा पैदा हुआ है। बैलेस्टिक मिसाइल के अमेरिका तक पहुंचने का दावा किया जा रहा है। परमाणु हथियार संपन्न उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन अक्सर अमेरिका को ही अपना दुश्मन नंबर एक बताते रहे हैं।

उत्तर कोरिया ने अमेरिका को दी चेतावनी
उत्तर कोरिया ने रविवार को अमेरिका को चेतावनी दी। उत्तर कोरिया ने कहा कि अगर अमेरिका ने मौजूदा सैन्य नीति जारी रखी तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। साथ ही ये भी कहा कि प्योंगयांग के दूसरे अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल लांच के प्रतिक्रियास्वरूप कड़े प्रतिबंध लगाए तो इसका भी माकुल जवाब देंगे।

अमेरिका ना करे मुर्खतापूर्ण टिप्पणी
विदेश मंत्रालय ने कहा कि यह परीक्षण अमेरिका के लिए एक सख्त चेतावनी थी कि वह मूर्खतापूर्ण टिप्पणियां न करे। प्रतिबंध न लगाए और डीपीआरके (डेमोक्रेटिक पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ कोरिया) के खिलाफ दबाव का अभियान न चलाए। बयान में कहा गया है कि अमेरिका द्वारा युद्ध का ढिंढोरा पीटने और डीपीआरके पर कड़े प्रतिबंध लगाने की धमकी देने से उत्तर कोरिया मजबूत ही हुआ है। परमाणु बम हासिल करने का इसका कदम और न्यायोचित साबित हुआ है।

सक्रिय हुई अमेरिकी वायुसेना
सक्रिय हुई अमेरिकी वायुसेना के प्रशांत क्षेत्र के कमांडर जनरल टेरेंस जे ओशौंगनेसी ने कहा है कि उत्तर कोरिया वर्तमान में हमारे लिए सबसे बड़ा खतरा है। कूटनीति पूरे मामले में अपना काम कर रही है लेकिन हम अमेरिका और उसके सहयोगी देशों की सुरक्षा के लिए पूरी तरह से तैयार हैं।

अमेरिका ने तैनात किए बमवर्षक विमान
इस बीच, अमेरिका ने कोरियाई प्रायद्वीप के नजदीक अपने अत्याधुनिक बी-1 बी बमवर्षक विमान तैनात कर दिए हैं। जरूरत पड़ने पर ये उड़कर कुछ ही मिनट में उत्तर कोरिया के ऊपर पहुंच सकते हैं। बमवर्षक विमानों के साथ कोरिया एयरफोर्स के चार और एफ-15 लड़ाकू जेट विमान भी पहुंच गए। दक्षिण कोरियाई और जापानी वायु सेनाओं के लड़ाकू विमानों के साथ यूएस बी-1बी बमवर्षकों ने 10 घंटे के द्विपक्षीय मिशन में हिस्सा लेते हुए अभ्यास किया। यह अभ्यास प्योंगयांग द्वारा गत शुक्रवार किए गए दूसरे आईसीबीएम परीक्षण के बाद किया गया। 

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week