विधवा ने शिवराज की अनुकंपा राशि लौटाई, अध्यापकों साथियों ने दिए 1 लाख रुपए

Sunday, July 9, 2017

मंडला। अनुकम्पा नियुक्ति के बदले 1 लाख रूपये आश्रित को देने की सरकार की योजना को एक और गहरा धक्का लगा जब मण्डला जिले के नारायणगंज विकासखण्ड के दिवगंत अध्यापक झलकन सिंह पंद्रो की पत्नी श्रीमती सुहागवती पंद्रो ने सरकारी 1 लाख रूपये लेने से साफ इंकार कर दिया। श्रीमती पन्द्रो का कहना है कि  इस एक लाख से उसका जीवन गुजारा नहीं हो सकता भले उसे तीन चार हजार की नौकरी दे दी जाए। संविदा चपरासी के पद पर नौकरी दे दी जाये पर ये एक लाख रूपये मंजूर नहीं हैं। 

मेरा पति अध्यापक था। सरकार का सेवक था। नौकरी के अलावा कोई अन्य आय का जरिया नहीं था। इस नौकरी से अच्छा तो कोई धंधा कर रहे होते तो मै उससे गुजारा कर सकती थी। पर अब जीवन यापन और बच्चों के पालन पोषण का संकट खड़ा हो गया है। जब हर कर्मचारी के मरने पर आश्रित को नौकरी मिलती है तो मुझे क्यों नहीं। अध्यापक मामलें में दोषपूर्ण नीति से क्षुब्ध राज्य अध्यापक संघ के अध्यापकों ने  दिवगंत अध्यापक पत्नी को तात्कालिक सहायता देने के लिये 1 लाख रूपये जुटा लिये और और गुरू पूर्णिमा के अवसर पर ससम्मान यह राशि उनकी पत्नी को सौंप दी गई और भरोसा दिलाया की संघ आंदोलन और न्यायालय के जरिए सरकार से इस लड़ाई को लडे़गा और जब तक सरकार अनुकम्पा नियुक्ति नियम का सरलीकरण नहीं करती ऐसे मामलों में अध्यापक परिवार का सहयोग किया जायेगा। 

राज्य अध्यापक संघ के जिला शाखा अध्यक्ष डी.के.सिंगौर ने बताया कि पिछले साल भी घुघरी ब्लाक के अध्यापक सुरेस दास सोनवानी की पत्नी को राज्य अध्यापक संघ ने षिक्षक दिवस के अवसर पर एक लाख रूपये की राषि भेंट की थी। जिला शाखा अध्यक्ष ने बताया कि सरकार हर कर्मचारी की मृत्यु पर उसके आश्रित को उसकी योग्यता के अनुसार किसी न किसी पद पर अनुकम्पा नियुक्ति देती है पर अध्यापकों के मामले में प्रावधान होते हुये भी लगभग किसी भी आश्रित को अनुकम्पा नियुक्ति नहीं मिल रही है। बता दे कि सरकार ने अध्यापक मामले में सिर्फ संविदा शिक्षक के पद पर अनुकम्पा नियुक्ति का प्रावधान करके रखा है और संविदा शाला षिक्षक पद के लिये अनुकम्पा नियुक्ति में भी  कक्षा 12में 50 प्रतिशत अंक के साथ उत्तीर्ण, डी.एड. साथ में  शिक्षक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण किया होना जरूरी है। संघ नहीं चाहता कि ऐसें आश्रित सरकारी एक लाख रूपये ले लें और अनुकम्पा नियुक्ति की फाइल हमेषा के लिये बंद करा लें। संघ उनके अधिकार के लिये लड़ रहा है और 7 वर्ष के अन्दर उन्हैं अनुकम्पा नियुक्ति दिलाने का प्रयास करेगा।

बीजेपी जिला अघ्यक्ष को अध्यापकों ने दिया ज्ञापन 
दिन रविवार को जिले भर के अध्यापक नारायणगंज में राज्य अध्यापक के बैनर तले एकत्रित हुए और अपनी मुख्य मांग शिक्षा विभाग में संविलियन , सातवॉ वेतनमान ट्रांसफर नीति गणना पत्रक की विसंगति को लेकर अनुकंपा नियुक्ति को लेकर धरना दिया धरने बी.जे.पी जिला अध्यक्ष श्री रतन सिंह ठाकुर उपस्थित हुए जिनकों अध्यापकों ने ज्ञापन दिया और अपनी पीड़ा सुनाई। बाद में अध्यापकों ने गणना पत्रक की होली जलाई।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week