LLB के छात्रों ने मचाया हंगामा: शासन ने सीट दी, कॉलेज फीस जमा नहीं करा रहा

Friday, June 23, 2017

ग्वालियर। MLB COLLEGE में फीस जमा करने पहुंचे LLB के छात्र और परिजन को बताया गया कि जेयू ने संबद्धता ही नहीं दी है इसलिए FEES जमा नहीं की जा सकती। छात्र व परिजन प्राचार्य के पास पहुंचे और समस्या बताई। प्राचार्य डॉ. एचएस श्रीवास्तव ने उनसे कहा कि जेयू ने AFFILIATION नहीं दी है। इस पर परिजन व छात्र आक्रोशित हो गए और छात्रों और परिजनों ने हंगामा कर दिया। कॉलेज प्रशासन ने संबद्धता न होने की बात कहकर फीस जमा करने से इनकार कर दिया था। विवाद बढ़ने पर कॉलेज प्राचार्य ने जेयू के डीसीडीसी प्रो. डीडी अग्रवाल से फोन पर चर्चा की। प्रो. अग्रवाल अपने निर्णय पर अड़े रहे। इस पर प्राचार्य ने उच्च शिक्षा विभाग के अधिकारियों को पूरे घटनाक्रम से अवगत करा दिया। जेयू अधिकारियों और भोपाल में उच्च शिक्षा विभाग के अधिकारियों से चर्चा की। कुछ देर बाद कॉलेज प्रशासन ने छात्रों की फीस जमा करना शुरू कर दी।

जेयू ने अंचल के 6 सरकारी कॉलेजों में सत्र 2017-18 में प्रवेश पर रोक लगा दी है। जेयू का कहना है कि इन कॉलेजों को बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने 2014 के बाद मान्यता की अप्रूवल लेटर का पत्र नहीं दिया है। इसलिए जब तक अप्रूवल नहीं आ जाएगा तब तक प्रवेश नहीं दिया जा सकता।

एमएलबी सहित अन्य सरकारी कॉलेजों ने जेयू के इस निर्णय से उच्च शिक्षा विभाग को अवगत करा दिया लेकिन शासन ने कॉलेजों में प्रवेश के लिए पोर्टल पर लिंक बंद नहीं की। इससे छात्रों ने रजिस्ट्रेशन करा लिया। बुधवार को शासन ने छात्रों को सीट अलॉट कर दीं। एमएलबी में एलएलबी ऑनर्स(पांच वर्षीय) में पहले वर्ष में 80 सीटें हैं। उच्च शिक्षा विभाग ने पहले चरण में 58 सीटें अलॉट की हैं।

क्या कहते हैं एमएलबी के जिम्मेदार
हम विवि को बीसीआई के नियम बता चुके हैं जिन कॉलेजों की निरीक्षण की फीस जमा है अथवा निरीक्षण हो चुका है लेकिन अप्रूवल लेटर नहीं मिला तो उसकी संबंद्धता नहीं छीनी जा सकती। हमारे कॉलेज का निरीक्षण हो चुका है। उच्च शिक्षा विभाग ने प्रवेश के लिए रजिस्ट्रेशन भी कराए हैं और सीट भी एलॉट की है। फिर भी जेयू मनमानी पर अड़ा है।
प्रो. वीके श्रोत्रिय, विभागाध्यक्ष लॉ संस्थान

शासन को अवगत कराया
रजिस्ट्रेशन से पहले हमने शासन को जेयू के निर्णय से अवगत करा दिया था। यदि गलती होती तो शासन रजिस्ट्रेशन कराता और न सीट अलॉट करता। हमने फिर शासन को वस्तुस्थिति से अवगत करा दिया है। हम छात्रों की फीस जमा कर रहे हैं और प्रवेश दे रहे हैं।
प्रो. एचएस श्रीवास्तव, प्राचार्य, एमएलबी कॉलेज

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week