भारतीय सिनेमा में नया इतिहास

Friday, June 2, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन। अब तो यह प्रमाणित हो गया है कि बिना किसी रजनीकांत और बिना किसी खान के भारतीय सिनेमा कमाई का सर्वोच्च आंकड़ा छू सकता है। जी, “बाहुबली-2 ” दो हजार करोड़ रुपये की कमाई का आंकड़ा पार कर गई है। आने वाले समय में किसी फिल्म की सफलता बाहुबली से मापी जाएगी। पिछले महीने की 27  तारीख को दो साल से बहुप्रतीक्षित फिल्म बाहुबली-2 : द कन्क्लूजन दुनिया भर में नौ हजार से अधिक सिनेमाघरों में तेलुगू, तमिल, हिंदी, मलयालम, फ्रेंच और जर्मन भाषाओं में रिलीज हुई। पहले ही दिन इसने रिकॉर्डतोड़ लगभग सवा सौ करोड़ की कमाई कर ली। आज की तारीख में इसकी कमाई घरेलू बाजार और बाहर के देशों को मिलाकर 2200 करोड़ रुपये से अधिक है। बाहुबली-2 ने भारतीय फिल्म इंडस्ट्री की चाल, अंदाज और सोच को नया आयाम दिया है। मंथर गति से चल रहे सिनेमा उद्ध्योग में बाहुबली-2 की सफलता से इस साल घरेलू बाजार में परिवर्तन उम्मीद की जा रही है।

अन्य देशों और भारत के थियेटर और दर्शकों के अनुपात को देखें, तो हमारे यहां जहां दस लाख दर्शकों के लिए मात्र छह सिनेमा थियेटर हैं, वहीं चीन में 23 और अमेरिका में 126 हैं। बड़े शहरों और मेट्रो में सिंगल स्क्रीन समाप्तप्राय: हैं। मल्टीप्लेक्स में टिकट की कीमत चार गुना अधिक होती है। इन सीमाओं के बावजूद बाहुबली ने सिंगल और मल्टीप्लेक्स, दोनों में हाउसफुल बिजनेस किया। एक फिल्म जब आशा से अधिक कमाती है, तो इसका फायदा पूरी इंडस्ट्री को होता है। पैसा वापस इंडस्ट्री में ही लगता है। फिल्मों में काम कर रहे निचले स्तर के कामगारों की स्थिति सुधरती है। काम के नए अवसर बनने लगते हैं। 

एक कठिन चुनौती थी यह। दो साल तक बाहुबली को दर्शकों के दिलो दिमाग में तरोताजा रखना और पहली किस्त से एक कदम आगे जाना आसान काम नहीं था। बाहुबली कॉमिक, पुस्तक और ऑनलाइन गेम्स ने इस ब्रांड को आगे बढ़ाने का जिम्मा लिया। राजमौलि ही नहीं, उनकी पूरी टीम के लिए यह समय चुनौती भरा था। फिल्म के नायक प्रभास ने बाहुबली सीरीज को लगभग चार साल दिए, इस बीच उन्होंने दूसरी कोई फिल्म नहीं की। राजमौलि की यह बड़ी सफलता थी कि बाहुबली  के दोनों भागों में उनके साथ ऐसे कलाकार और टैक्नीशियन जुड़े थे, जो उन पर पूरी तरह यकीन करते थे।

यह स्थापना हो चुकी है कि बाहुबली-2 सिर्फ एक कामयाब या रिकॉर्ड कमाई करने वाली फिल्म नहीं है, यह एक लकीर है, एक दस्तावेज है कि भारतीय फिल्में किस स्तर की बन सकती हैं और कहां तक पहुंच सकती हैं।
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।        
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week