BJP: भरे मंच से मंत्री ने कहा बहुत देखे है ऐसे सांसद, भगत ने कहा चोरमंत्री

Wednesday, June 14, 2017

आनंद ताम्रकार/बालाघाट। सांसद बोधसिंग भगत और मंत्री गौरीशंकर बिसेन के बीच चल रही तनातनी आज चरम पर आ गई। जब आज मलाजखंड में आयोजित सबका साथ सबका विकास, सम्मेलन आयोजित किया गया। जिसमें सांसद और मंत्री दोनो मंच पर मौजूद थे। दोनों के बीच मंच पर ही गरमा-गरम वाकयुद्ध होता दिखाई दिया। जिसके कारण मंच पर कुछ देर के लिये सन्नाटा छा गया। मंत्री ने भरे मंच से सांसद को झिड़क दिया तो सांसद ने भी मंत्री को चोरमंत्री कहकर पुकारा। सबकुछ मंच पर जनता के सामने, माइक पर हुआ। 

सांसद बोधसिंग भगत जब समारोह को संबोधित कर रहे थे, तब उन्होने एक मामले का उल्लेख किया। जिस पर जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक बालाघाट के अध्यक्ष राजकुमार रायजादा नें उनकी कही बातों का खंडन किया। इसी बीच मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने भी सांसद बोधसिंग भगत से गलत बात नही कहने की बात कहीं। इस दौरान सांसद और मंत्री के बीच तीखी झडप भी हो गई जिसमें मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने कहा कि बहुत देखे है ऐसे सांसद। उनके जवाब में सांसद ने भी मंत्री बिसेन को चोर मंत्री कह दिया। इसके बाद मंत्री गौरीशंकर बिसेन मंच छोडकर चले गये।

कार्यक्रम के दौरान जब मंत्री गौरीशंकर बिसेन संबोधित कर रहे थे, तभी एक ग्रामीण द्धारा मलाजखंड खदान में रोजगार नही दिये जाने की गुहार लगाई जिसको सुनकर मंत्री बिसेन ने उस ग्रामीण को कार्यक्रम से बाहर कर देने की बात कही। उसके बाद सांसद बोधसिंग भगत ने समारोह में अपने उद्धबोधन में सबसे पहले उस ग्रामीण की बात का समर्थन करते हुये कहा कि मलाजखंड परियोजना में स्थानीय लोगो को रोजगार नही दिया जा रहा है। 

सांसद भगत ने यशोदा सीड्स नामक कंपनी के बीज बिक्री किये जाने का जिक्र करते हुये कहा कि इस कंपनी के बीच के विक्रय पर प्रतिबंध लगाया जाए। इसी बीच जिला सहकारी केन्द्रिय बैंक के अध्यक्ष राजकुमार रायजादा ने भी इस कंपनी के बीज के विक्रय प्रतिबंधित कर दिये जाने की बात कही जिस पर सांसद भगत ने कहा कि बाजार में इस कंपनी के बीज धडल्ले से विक्रय किये जा रहे हैं। बस इसी बात को लेकर मंत्री और सांसद के बीच तीखी झडप हो गयी। 

यह उल्लेखनीय है कि महाराष्ट के हींगनघाट स्थित यशोदा सीड्स नामक कंपनी द्वारा गत वर्ष अमानक स्तर के बीज जिले तथा प्रदेश में बेचे थे। जिनमें अंकुरण ही नही हुआ था जिसके कारण किसानो की फसल बरबाद हो गयी। इसी कंपनी केे बीज सांसद भगत नें भी खरीदे थे। जिसको बोने के बाद उनके खेत में भी बीज अंकुरित नही हुये। जिसकी शिकायत सांसद भगत नें शासन को करते हुये इस कंपनी के बीज विक्रय पर प्रतिबंध लगाते हुये उसे काली सूची में दर्ज कराये जाने मांग की थी जिस पर जिला मंत्रणा समिति नें कंपनी के बीज विक्रय पर प्रतिबंध लगाते हुये उसका नाम काली सूची में दर्ज कराये जाने का प्रस्ताव शासन को भेजा था। लेकिन इस कंपनी को संयुक्त संचालक कृषि विकास जबलपुर द्धारा विक्रय की अनुमति दे दी गई। जिसके कारण जिले और प्रदेश में यशोदा सीड्स के बीज विक्रेय किये जा रहे है। बस इसी बात को लेकर सांसद भगत नाराज है। 

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week