मप्र रापुस के 752 अफसरों के पास कालाधन

Saturday, June 3, 2017

भोपाल। मप्र राज्य पुलिस सेवा के 752 अफसरों के पास अकूत कालाधन मौजूद है। इन अफसरों ने मांगे जाने के बावजूद अपनी संपत्ति का ब्यौरा आजतक दाखिल नहीं किया है। मप्र में कुल 1040 रापुसे अफसर हैं, इनमें से मात्र 288 ने ही अपनी संपत्ति का ब्यौरा दिया है। अत: यह माना जाना चाहिए कि शेष 752 अफसरों के पास कालाधन भरा हुआ है, यह इतनी अधिक मात्रा में है कि उसे एडजस्ट भी नहीं किया जा पा रहा। इसीलिए वो अपनी संपत्ति का ब्यौरा देने में आनाकानी कर रहे हैं। इधर जिन 288 अफसरों ने ब्यौरा दिया है उनमें से कई ने खानापूर्ति भर की है। पूरी जानकारियां दर्ज नहीं की। कई ने तो पुराने फार्म भर दिए जिसमें पूरी जानकारी वाले कॉलम ही नहीं हैं। जिन अफसरों ने संपत्ति की जानकारी दी है उनमें से भी कुछ खानदानी करोड़पति हैं। आइए देखते हैं, किसके पास कितनी संपत्ति है: 

नाम : अरविंद सिंह ठाकुर
पद : एसडीओपी पाटन
कुल संपत्ति : 5 करोड़ 80 लाख
संपत्ति से आमदनी : साढ़े सात लाख
ब्योरा जो दिया : ग्राम कुरचरा जिला दतिया में 50 बीघा पैतृक जमीन, दतिया और भोपाल में घर। तीनों की वर्तमान कीमत 5 करोड़ 80 लाख है। उन्होंने सिर्फ शहर और गांव का नाम बताया पूरा पता नहीं। संपत्ति से कमाई साढ़े सात लाख रुपए बताई।

नाम : देवेश पाठक
पद : डीएसपी लोकायुक्त रीवा
कुल संपत्ति : 3 करोड़ पांच लाख
संपत्ति से आमदनी : 2 लाख 53 हजार
ब्योरा जो दिया : तीन संपत्ति हैं, तीनों ही विरासत में मिलना बताया। रीवा पांडेन टोला में 3000 वर्ग फीट का डबल स्टोरी मकान है, जिसकी कीमत डेढ़ करोड़ रुपए बताई लेकिन इससे मिलने वाला किराया सिर्फ 72 हजार रुपए सालाना बताया। डेढ़ करोड़ रुपए की कृषि भूमि है जिससे 1 लाख 81 हजार रुपए की वार्षिक आमदनी होना बताया।

नाम : हरीश मोटवानी 
पद : डीएसपी रेडियो भोपाल
कुल संपत्ति : एक करोड़ पांच लाख की
संपत्ति से आमदनी : 17 लाख 40 हजार
ब्योरा जो दिया : हरीष मोटवानी के पास करीब पांच संपत्ति है, लेकिन एक भी उनके नाम पर नहीं है। सारी उनकी पत्नी नेहा मोटवानी ने अपनी सेविंग और लोन लेकर खरीदी। इसमें इंदौर में एक घर, गोडाउन, मेट्रो टॉवर में शॉप, स्कीम ई 8 में एक और शॉप और इंदौर के ही शालीमार टाउनशिप में मकान होना बताया है।

ऐसे दी गोलमोल जानकारी
कटनी में पदस्थ डीएसपी भरत सोनी ने ब्योरे में बताया कि उनके पास चार घर है। तीन सागर में और एक सीहोर में। हालांकि उनका दावा है कि किसी भी मकान से किराया नहीं मिल रहा।
इधर एसपी रेडियो भोपाल ने भी भोपाल में तीन मकान जिनकी वर्तमान मूल्य करीब एक करोड़ दस लाख रुपए बताई है से भी किसी प्रकार की कोई आमदनी नहीं होना बताया।

अफसरों को दान में बहुत कुछ मिला
आज के दौर में भले ही संपत्ति को लेकर भाई से भाई भिड़ जाए, लेकिन मप्र पुलिस के अफसरों के मामले में ऐसा नहीं है। कई अफसरों ने उनकी संपत्ति दान में मिलना भी बताई है। पुलिस मुख्यालय में पदस्थ डीएसपी रिसर्च एंड डेवलपमेंट के प्रतिपाल सिंह महोबिया ने अपने पास 0.24 एकड़ जमीन होना बताया है। इसकी कीमत 25 लाख रुपए है। प्रतिपाल के अनुसार यह जमीन उन्हें उनके भाई (मामा के लड़के) ने दान की है। ऐसे ही एसडीओपी मंदसौर हरिसिंह परमार के अनुसार 2 बीघा जमीन उनके ससुर ने उन्हें दान में दी।

एसपी/एटीएस के पास कुछ भी नहीं
ऐसा नहीं है कि रापुसे के सभी अफसर करोड़पति है। कुछ तो ऐसे भी है जिनके पास खुद के नाम की कोई संपत्ति नहीं है। ऐसा उन्होंने ब्योरे में बताया है। इसमें एसपी एंटी टेरिरिज्म स्कॉवड (एटीएस) प्रणय एस नागवंशी, एसपी रेडियो इंदौर जोन राजेश दंडोतिया, सीएसपी मंदसौर संध्या राय, सीएसपी बालाघाट मोनिका तिवारी सहित अन्य पुलिस अफसर शामिल है।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week