1 जुलाई से हो पूर्व में कार्यरत अतिथि शिक्षको की भर्ती नही तो आमरण अनशन

Monday, June 19, 2017

सीधी। अतिथि शिक्षक संघ मप्र के तत्वाधन में जिले में अपनी लम्बित मांग विभागीय पात्रता परीक्षा लेकर नियमितीकरण किये जाने व  सत्र 2017-18 मे पुराने अतिथि शिक्षकों को प्राथमिकता देने को लेकर अतिथि  शिक्षको द्वारा कल से दो दिवसीय धरना प्रदर्शन कलेक्ट्रेट के सामने बीथिका भवन जिला सीधी में शुरू कर दिया गया है। जिसमे सैकड़ो के तदात मे अतिथि शिक्षक शामिल हुए। 

अतिथि शिक्षक संघ के जिला मीडिया प्रभारी रवि गुप्ता बताया की बार बार आंदोलन और आमरण अनशन हड़ताल पैदल मार्च के बाद भी आज 9 वर्षो से भी अधिक हो गया है मध्यप्रदेश के अतिथि शिक्षक बहुत ही अल्प वेतन मजदूरी से भी कम का वेतन लेने के बाद भी प्रदेश सरकार ने अतिथि शिक्षको को आश्वाशन और भरोषा के शिवाय आज तक कुछ नही दिया है और तो और अब बहुत से अतिथि शिक्षक अब उम्र अधिक होने के कारण अपने भविष्य को भी खो चुके है क्यों की अब इसके अलाबा कोई चारा हमारे पास नही है। 

हमारी मांग है की सम्पूर्ण मध्यप्रदेश में अतिथि शिक्षको को नए शिक्षण सत्र 2017-18 हेतु अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति के आदेश 1 जुलाई से अध्यापन कार्य हेतु रखने के आदेश हो। आदेश में स्पष्ट हो की पूर्व में कार्यरत अनुभवी अतिथि शिक्षको को सर्वप्रथम प्राथमिकता देते हुए उन्हें शालाओ में यथावत रखा जाये। माननीय मुख्यमंत्री जी एवं शिक्षामंत्री जी की घोषणा एवं विधानसभा में पारित प्रस्ताव के अनुरूप नए शिक्षण सत्र से अतिथि शिक्षको  को बढ़ा हुआ वेतनमान प्रदाय किया जाये एवं इन्होंने यह भी कहा कि यदि अतिथि शिक्षको को रखने के आदेश 1 जुलाई  तक नही होते है तो समस्त अतिथि शिक्षको द्वारा जिले स्तर से लेकर प्रदेश स्तर तक वृहद स्तर पर विशाल आंदोलन और आमरण अनशन होगा और अनिश्चितकालीन हड़ताल करने को संघ मजबूर होगा अतः मध्यप्रदेश शासन से जल्द से जल्द अतिथि शिक्षको की समस्याओ का निराकरण करने की मांग के साथ 1 जुलाई  से इन्हें रखने की मांग संघ ने की है  एवं  जल्द से जल्द नीति बनाकर अतिथि शिक्षको का  नियमितीटकरण किया जाय।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week