कालाधन: 393 कंपनियां CBI जांच की जद में

Monday, May 8, 2017

नई दिल्ली। केंद्रीय जांच एजेंसी (सीबीआई) 2900 करोड़ रुपये की हेराफेरी करने वाली 393 कंपनियों पर अपना शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। बताया जा रहा है कि इन फर्जी कंपनियों टैक्स चोरी और कालेधन के सफेद करने के लिए पैसों का जमकर हेर-फेर किया। इन कंपनियों के जरिए टैक्स हैवन कहे जाने वाले देशों में पैसा भेजकर उसे विदेशी निवेश के रूप में वापस लाने के लिए भी इनका इस्तेमाल किया जाता है।

CBI ने 28 सार्वजनिक बैंकों और एक निजी बैंक से जुड़े विभिन्न लोन धोखाधड़ी मामलों की जांच के दौरान धन के हेर-फेर की इन गतिविधियों को पकड़ा. इसके साथ ही एजेंसी कम से कम 30,000 करोड़ रुपये के लगभग 200 मामलों की जांच कर रह रही है. सीबीआई इन कंपनियों के खिलाफ भ्रष्टाचार और जुड़े हुए मामलों का केस चलाएगी।

जानकारी के मुताबिक CBI ने इन मामलों को जांच एजेंसियों के पास भी भेजा है ताकि इनमें कंपनी कानून, मनी लांड्रिंग निरोधक कानून (पीएमएलए), बेनामी लेन-देन (निरोधक) कानून और आयकर कानून जैसे कानूनों के तहत कार्रवाई की जा सके. CBI का कहना है कि उसने नोएडा, मुंबई, कोलकाता और जगहों पर डिजिटल स्टूडियो स्थापित करने के लिए बैंक लोन लिए और उसके हेर-फेर के लिए 98 से अधिक फर्जी कंपनियों का इस्तेमाल किया.

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week