स्वतंत्र राज्य सिक्किम का भारत में विलय: आज का इतिहास ,16 मई | TODAY IN HISTORY

Tuesday, May 16, 2017

राजू जांगिड़/विशेष | ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार 16 मई वर्ष का 136 वाँ (लीप वर्ष में यह 137 वाँ) दिन है। साल में अभी और 229 दिन शेष हैं। आज के दिन विश्वभर में कई ऐतिहासिक घटनाएं घटी थी। आज ही के दिन 1975 में भारत के एक राज्य सिक्किम की स्थापना की गयी। सिक्किम स्थापना दिवस हर साल 16 मई को बनाया जाता है। सिक्किम नामग्याल राजतन्त्र द्वारा शासित स्वतन्त्र राज्य था। 1975 में हुए जनमत-संग्रह के बाद यह भारत में विलीन हो गया। इस जनमत संग्रह के बाद राजशाही का अन्त और भारतीय संविधान की नियम-प्रणाली के अंतर्गत यहाँ प्रजातन्त्र का उदय हुआ।

अंगूठे के आकार का यह राज्य पश्चिम में नेपाल, उत्तर तथा पूर्व में चीनी तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र तथा दक्षिण-पूर्व में भूटान से लगा हुआ है। भारत का पश्चिम बंगाल राज्य इसके दक्षिण में है।  अंग्रेजी, नेपाली, लेप्चा, भूटिया, लिंबू तथा हिन्दी आधिकारिक भाषाएँ हैं परन्तु लिखित व्यवहार में अंग्रेजी का ही उपयोग होता है। हिन्दू तथा बज्रयान बौद्ध धर्म सिक्किम के प्रमुख धर्म हैं। गंगटोक राजधानी तथा सबसे बड़ा शहर है।

अपने छोटे आकार के बावजूद सिक्किम भौगोलिक दृष्टि से काफ़ी विविधतापूर्ण है। कंचनजंगा जो कि दुनिया की तीसरी सबसे ऊंची चोटी है, सिक्किम के उत्तरी पश्चिमी भाग में नेपाल की सीमा पर है और इस पर्वत चोटी को प्रदेश के कई भागो से आसानी से देखा जा सकता है। साफ सुथरा होना, प्राकृतिक सुंदरता एवं राजनीतिक स्थिरता आदि विशेषताओं के कारण सिक्किम भारत में पर्यटन का प्रमुख केन्द्र है। सिक्किम के बारे में और अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

आज के दिन अन्य महत्वपूर्ण घटनाएं
1999 में दक्षेस का 2002 ई. में होने वाला शिखर सम्मेलन थिम्पू में कराये जाने की घोषणा की गयी।
2004 में रोजर फ़ेडेरर ने हेम्बर्ग मास्टर्स ख़िताब जीता।
2006 में दो बड़ी घटनाएं घटी जिसमें हॉलीवुड की चर्चित अदाकारा आस्कर पुरस्कार के लिए नामित नाओमी वाट्स को संयुक्त राष्ट्र संस्था का राजदूत बनाया गया। न्यूजीलैंड के 47 वर्षीय मार्क इंजलिस ऐसे पहले पर्वतारोही बन गये, जिन्होंने कृत्रिम पैरों के सहारे एवरेस्ट की चोटी पर झण्डा फहराया।

16 मई को जन्मे लेने वाले लोग
1805 , जो सर अलेक्ज़ेंडर बर्न्स, वर्तमान पाकिस्तान, अफ़ग़ानिस्तान, तुर्कमेनिस्तान, उज़बेकिस्तान एवं ईरान में अभियानों के लिए प्रसिद्ध ब्रिटिश अन्वेषक एवं राजदूत थे।
1933 में गुलशेर ख़ाँ शानी- प्रसिद्ध साहित्यकार थे।

आज के दिन जिनका निधन हुआ था
आज ही के दिन 2014 में रूसी मोदी जो भारत के प्रसिद्ध उद्योगपति तथा टाटा समूह के शीर्ष सदस्य थे का निधन हुआ था।
1945 में गोपाल चंद्र प्रहराज जो उड़िया भाषा के प्रसिद्ध साहित्यकार तथा भाषाविद थे।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week