BJP: सात प्रकोष्ठों के प्रदेश संयोजक घोषित | APPOINTMENT

Tuesday, April 18, 2017

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री नंदकुमारसिंह चौहान, प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत ने प्रदेश में सात प्रकोष्ठों के प्रदेश संयोजकों की घोषणा कर दी है।बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक डॉ. मधुसूदन भदौरिया ग्वालियर, व्यवसायिक (प्रोफेशनल्स) प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक श्री विकास बोन्द्रिया भोपाल, चिकित्सा प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक डॉ. लक्ष्य भारद्वाज भोपाल, व्यापारी प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक श्री कल्याण अग्रवाल खरगौन, सहकारिता प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक श्री नेमीचन्द जैन शाजापुर, ग्रामीण विकास पंचायती राज बुनकर प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक श्री विजयपाल सिंह (बंटीबना) विदिशा और मछुआरा प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक श्री बाबूलाल चौहान (भोई) मंदसौर को मनोनीत किया गया है।

अब आम आदमी के स्वास्थ्य की गारंटी होगी: जीतू जिराती
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री जीतू जिराती ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने सोलहवीं लोकसभा चुनाव में भरोसा दिलाया था कि आम आदमी के स्वास्थ्य के लिए सरकार की नीति जनोन्मुखी होगी। केन्द्र सरकार ने इस दिशा में पहल करके सात सौ से अधिक औषधियों के दाम तय कर दिये है। हृदय रोग से पीड़ितों की शल्य क्रिया में काम आने वाले जिस स्टेंट की कीमत एक से डेढ़ लाख थी उसे 25-30 हजार और जिस स्टेंट की कीमत 40 हजार रू. होती थी, उसका मूल्य घटकर 6 हजार रू. तय हो चुका है। इससे जहां दवा कंपनी लाबी में आक्रोश है, वहीं आम आदमी केन्द्र सरकार की प्रतिबद्धता की सराहना कर रहा है।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने हाल ही में कहा है कि जल्दी ही ऐसी नीति बनेगी, जिसमें जेनेरिक दवाईयां लिखना चिकित्सकों की जिम्मेदारी होगी। मरीजों का उपचार सस्ता होगा। मुनाफाखोर ब्रांडेड दवा कंपनियों को भी मूल्य घटाने के लिए विवश होना पड़ेगा। इस तरह केन्द्र सरकार ने स्वास्थ्य क्षेत्र को व्यापार धंधा बनाने वालों को समाजोन्मुखी दृष्टिकोण अपनाने के लिए विवश करने का इरादा जता दिया है। इसका नतीजा यह होगा कि अभी तक चिकित्सकों और दवा लाबी की जो सांठ-गांठ होती थी, वह समाप्त हो जायेगी। निजी अस्पतालों और फार्मा उद्योग के लिए मापदंड तय किये जायेंगे। हो सकता है कि केन्द्र सरकार का इरादा राष्ट्रीय दवा चिकित्सा नियामक जैसे निकाय के गठन का इरादा हो। इससे सस्ते इलाज का मार्ग प्रशस्त होगा। केन्द्र सरकार की इस दिशा में पहल ऐतिहासिक और समाज हितैषी है।

श्री जीतू जिराती ने कहा कि मध्यप्रदेश में भी अनूठी पहल आरंभ हो चुकी है। सरकार ने सरदार वल्लभ भाई पटेल चिकित्सा योजना में सरकारी अस्पतालों में मुफ्त दवा वितरण आरंभ कर दिया है। प्रदेश के 3000 से अधिक हाट बाजारों में जिला चिकित्सा अधिकारी के निर्देशन में डाक्टरों को तैनात करने का क्रम आरंभ हो रहा है, जिससे ग्रामीणों के हाट के दिन मुफ्त इलाज मिलेगा। ये हाट केन्द्र ऐसे स्थानों पर है, जहां प्राथमिक केन्द्र है, लेकिन चिकित्सकों की कमी के कारण चिकित्सा केन्द्र चिकित्सक विहीन है। ऐसे में साप्ताहिक हाट में चिकित्सकांे की तैनाती से आम आदमी जो हाट में पहुंचता है, चिकित्सा सेवाएं प्राप्त करेगा। इससे ग्रामीणों को झोला छाप नीम हकीम चिकित्सकों से मुक्ति मिलेगी।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


Popular News This Week

खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं