पत्नी मुझे गुलाम बनाना चाहती है: SDM | साहब के महिला पटवारी से रिश्ते हैं: पत्नी

Tuesday, March 21, 2017

गुना। एक अधिकारी और पत्नी का विवाद SP और कलेक्टर तक पहुंच गया है। दरअसल चांचौड़ा SDM पर उनकी पत्नी ने मारपीट, जान से मारने की कोशिश एवं महिला पटवारी से संबंध होने के गंभीर आरोप लगाए हैं। वहीं पति का आरोप है कि, पत्नी उसे गुलाम बनाकर रखना चाहती है। महिला का कहना है कि उसके पति एसडीएम हैं। उनके महिला पटवारी से संबंध हैं। इसका जब विरोध करती हूं, तो मेरे साथ मारपीट की जाती है। 

पति उसे नई-नई साड़ी लाकर देते हैं और मुझे पैसे तक नहीं देते। उधर, एसडीएम ने आरोप को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि मैं कोई मारपीट नहीं करता, बल्कि ही मुझे गुलाम बनाकर रखना चाहती है। वह मेरे साथ मारपीट करती है। मुझे भागकर बचना पड़ता है। हाल ही में पत्नी ने रिमोट मारकर मुझे घायल कर दिया।

चांचौड़ा अनुविभागीय अधिकारी (एसडीएम) डॉ. अभय सिंह खरारी की पत्नी सुनीता खरारी ने एसपी कार्यालय पहुंचकर अपने पति की शिकायत दर्ज कराई। उन्होंने बताया है कि पति (एसडीएम) ने 17 मार्च को रात 3 बजे मेरे साथ मारपीट की और गला दबाने का प्रयास किया। बड़ी मुश्किल से मैंने अपनी जान बचाई है। पति ने दो दिन तक मुझे कमरे में बंद करके रखा था। जैसे-तैसे बचकर शिकायत करने आई हूं।

मेरे पति अधिकारी हैं, इस वजह से मेरी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। महिला का यह भी कहना है कि पति ने बड़वानी निवासी एक महिला पटवारी से संबंध है। महिला पटवारी अक्सर चांचौड़ा आकर बंगले पर रुकती है। इसका विरोध करने पर भी मेरे साथ मारपीट की जाती है। चांचौड़ा थाने में भी शिकायत की थी, लेकिन अनसुना कर दिया। एसपी को आवेदन देने के बाद महिला सीधे कलेक्टर राजेश जैन से भी मिलने पहुंचे। उसने चैंबर में उन्हें अपनी समस्या बताई।

एसडीएम की पत्नी का कहना था कि डॉ. खरारी महिला पटवारी को नई-नई साड़ी लाकर देते हैं, मैं देखती रहती हूं। मुझे तो खर्च तक के लिए पैसे नहीं दिए जाते हैं। मेरी स्थिति बुरी कर रखी है।

शादी हुई तो वेटनरी डॉक्टर थे मैंने साथ दिया हैं अब मुंह फेर लिया
मेरी शादी 1990 में खांकखेड़ी निवासी डॉ. अभय खरारी से हुई थी। उस समय वह सिर्फ वेटनरी डॉक्टर थे। वर्ष 2005 में वह राज्य सेवा आयोग में चुने गए। मैंने उनका बहुत साथ दिया। पूरी गृहस्थी को संभाली, लेकिन मुझे 4 साल से परेशान किया जा रहा है। महिला का कहना है कि पति मुझे भगाना चाहते हैं। कहते हैं कि मैं अनपढ़ हूं। लेकिन, मैं उन्हें छोड़कर कहीं नहीं जाऊंगी। उनके घर से ही मेरी अर्थी निकलेगी।

इस बारे में एसडीएम अभय सिंह खरारी का कहना था कि 5 साल से मैं तनाव में हूं। पत्नी की हरकत से तंग आ चुका हूं। वह मुझे मारती हैं। बचने के लिए भागना पड़ता है। दो बार मेरा चश्मा तोड़ दिया। ऑफिस में आकर भी तंग करती है। कई बार तो उसने ऑफिस के दस्तावेज तक फाड़ने की कोशिश की। मुझे वह अपना गुलाम बनाकर रखना चाहती है। संपत्ति भी पत्नी के नाम कर रखी है। लेकिन, वह इसके बाद भी झगड़ा करती रहती है।

उसकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। इंदौर में बच्चे रहते हैं। वह भी उसकी आदत को जानते हैं। इस वजह से मिलने तक नहीं आते हैं। एसडीएम ने बताया कि पत्नी की हरकतों से तंग आकर धार जिले में उन्होंने परिवार न्यायालय में परिवाद भी लगाया हुआ है। दो बार पेशी भी हो चुकी है। दोनों का विवाह 1990 में था। पत्नी मूलत: धार जिले की रहने वाली है। दोनों के तीन बेटे हैं। एक डॉक्टर और दूसरा इंजीनियर है। तीसरा बेटा बीएससी सेकंड ईयर में अध्ययनरत है। तीनों बेटे इंदौर में रहते हैं। चांचौड़ा एसडीएम की पत्नी ने लिखित में शिकायत दर्ज कराई है कि पति मारपीट करते हैं। इस मामले की जांच महिला पुलिस अधिकारी से कराई जा रही है।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week