और ये रोड शो की राजनीति

Tuesday, March 7, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लगातार दो दिन तक बनारस में हुए दौरे और रोड शो ने कुछ नये सवाल खड़े किये हैं। यह सही है कि इससे पहले किसी प्रधानमंत्री ने यह तरीका नहीं अपनाया था। इसकी विपक्ष ही नहीं, कई भाजपा समर्थक सहयोगी दलों ने भी आलोचना की है। उत्तर प्रदेश विधानसभा जीतना भाजपा और नरेन्द्र मोदी के लिए शायद इतनी कड़ी चुनौती थी और है  कि कोई कोर कसर बाकी छोड़ना मुनासिब नहीं समझा गया। इस चुनाव में रोड शो का सिलसिला इन चुनावों में समाजवादी पार्टी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने शुरू किया। बाद में कुछेक शहरों में रोड शो भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और पार्टी के कुछ अन्य नेताओं ने भी किया लेकिन शायद पार्टी को लगा कि चुनौती बड़ी है इसलिए प्रधानमंत्री ने अपने संसदीय क्षेत्र में एक नहीं, दो-दो दिन रोड शो का आयोजन किया।

कहने को पहले दिन के आयोजन को जनता दर्शन कहा गया। विपक्ष का यह भी आरोप है कि पहले दिन के लिए प्रशासन से अनुमति नहीं ली गई। संभव है, ऐसा शायद लगातार दूसरे दिन रोड शो करने की गुंजाइश रखने के लिए किया गया हो। कुछ लोग यह भी कह रहे हैं कि पहले दिन बाद में राहुल-अखिलेश के रोड शो में भारी भीड़ उमड़ने से प्रधानमंत्री को दूसरे दिन भी शक्ति प्रदर्शन करने पर मजबूर होना पड़ा है। 11 मार्च सबके पत्ते खुल जायेंगे।

यह देखा जाना जरूरी है कि रोड शो का सियासी संदेश क्या है? असल में चुनाव प्रचार के दौरान जुलूस वगैरह निकालने की परंपरा तो पुरानी है। खासकर वामपंथी और पुराने समाजवादी, लोगों को प्रभावित करने के लिए ये तरीके अपनाते रहे हैं परन्तु वे रोड शो नहीं हुआ करते थे। उसमें नेता हुआ करते थे, पर इस कदर खुली गाड़ियों में जनता का अभिवादन स्वीकार करते नहीं दिखते थे। अमूमन उन जुलूसों में पैदल चलना अनिवार्य होता था। गाड़ियों का इस्तेमाल नहीं होता था। मौजूदा रोड शो की तरह का आयोजन पहली दफा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने 2004 के आम चुनाव के पहले देश भर के कई शहरों और इलाकों में किया था और खासा असर पैदा किया था। इस बार भी उत्तर प्रदेश चुनाव के ऐलान के कुछ महीने पहले सोनिया गांधी ने ही बनारस में रोड शो किया था। जिसमें भारी भीड़ दिखी थी। असल में ये तरीके अपने व्यक्तित्व और लोकप्रियता से लोगों के प्रभावित करने के तो हैं, लेकिन लोगों को राजनैतिक मुद्दों पर जागरूक करने के नहीं हो सकते. इसलिए इससे राजनीति आगे नहीं जाती है।
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।        
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week