परमानेंट हो चुके दैवेभो कर्मचारियों को भी मिलेगा 7वां वेतनमान

Monday, March 6, 2017

भोपाल। दैनिक वेतन भोगी (दैवेभो) से स्थाई कर्मी बन चुके कर्मचारियों को सरकार जल्द ही महंगाई भत्ते में 7 फीसदी बढ़ोत्तरी का लाभ देने वाली है। 1 मार्च से पेंशनरों के महंगाई भत्ते में बढ़ोत्तरी के बाद सरकार ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। सरकार ने 7 अक्टूबर को दैवेभो को स्थाई कर्मी बनाने के आदेश जारी किए थे। इन्हें वेतनमान व अन्य सुविधाओं के साथ 125 फीसदी महंगाई भत्ते का लाभ देना है। 

हालांकि बीते पांच महीने में 45 हजार में से 10 फीसदी दैवेभो ही स्थाई कर्मी बन पाए हैं। बाकी की प्रक्रिया किसी ने किसी कारण से अटक रही है। कुछ कर्मचारी योग्यता नहीं होने के कारण प्रक्रिया से बाहर हो रहे हैं। जबकि ज्यादातर पहले से कोर्ट की शरण में हैं।

यह आ रही दिक्कत
प्रदेश में दैवैभो की संख्या 50 हजार से अधिक है, इनमें से 20 फीसदी दैवेभो कोर्ट में हैं। सरकार ने पहले ही शर्त रखी थी कि जो कोर्ट में हैं, उन्हें स्थाई कर्मी नहीं बनाएंगे। अक्टूबर में जारी आदेश में कई शर्ते तय की गई थीं। उसे विभागों में सालों से काम कर रहे दैवेभो पूरा नहीं कर पा रहे हैं, जिसके चलते उन्हें स्थाई कर्मी का लाभ नहीं मिला। 50 फीसदी विभागों ने यह प्रक्रिया ही शुरू नहीं की, जिसके चलते दैवेभो को स्थाई कर्मी नहीं बनाया गया।

सरकार कर रही विचार
सरकार स्थाई कर्मियों के महंगाई भत्ते में 7 फीसदी की बढ़ोत्तरी करने पर विचार कर रही है। जो भी निर्णय होगा, कर्मचारियों के हित में ही होगा। दैवेभो को स्थाई कर्मी बनाने की प्रक्रिया तेजी से चल रही है। कई विभागों में यह प्रक्रिया पूरी भी हो चुकी है।
रमेश शर्मा, अध्यक्ष, मप्र कर्मचारी कल्याण समिति

स्थाई कर्मी बनाएं, भत्ते का लाभ भी दें
मप्र कर्मचारी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद्र खोंगल ने कहा कि आदेश को पांच महीने हो रहे हैं, लेकिन अभी तक दैवेभो को स्थाई कर्मी नहीं बनाया गया है। 10 फीसदी विभागों ने ही यह प्रक्रिया पूरी की है, जहां स्थाई कर्मी बनाए गए लोगों को 125 फीसदी महंगाई भत्ते का लाभ मिल रहा है। सरकार से मांग की गई है कि उन्हें भी राज्य के कर्मचारी व पेंशनरों के समान 132 फीसदी महंगाई भत्ते का लाभ दिया जाए।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


Popular News This Week

खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं