रोडरोमियो से तंग आकर 10वीं की छात्रा ने फांसी लगा ली

Tuesday, March 21, 2017

भोपाल। टीटी नगर के मद्रासी कॉलोनी में फांसी लगाने वाली 10वीं की छात्रा हेमा (16) पिता नारायण बोरादे ने मनचले की हरकतों से तंग आकर आत्महत्या की थी। आरोपी करीब एक साल से उसे परेशान कर रहा था। उसने धमकी दी थी कि अगर हेमा ने उससे शादी नहीं की, तो वह उसे जान से मार देगा। यह आरोप मृतका की बड़ी बहन दीपाली ने लगाए। हालांकि परिजनों ने पुलिस से कभी भी शिकायत नहीं की थी। उधर, सोमवार को पोस्टमार्टम के बाद पुलिस ने परिजनों को शव सौंप दिया।

दीपाली ने बताया कि वह पहले जयभीम नगर में रहते थे। सरकारी मकान मिलने के बाद वे यहां करीब छह महीने पहले ही रहने आए हैं। हेमा से जयभीम नगर में रहने वाला 22 वर्षीय सचिन पवार छेड़छाड़ कर रहा था। वह हेमा का पीछा करता और रास्ते में उसका हाथ तक पकड़ लेता था। यह बात हेमा ने ही मुझे बताई थी।

रविवार दोपहर करीब तीन बजे हेमा अपनी सहेली से मिलने का कहकर घर से निकली। घर से निकलते ही सचिन उसके पीछे लग गया। यह देखते ही हेमा की मां मंदा उनके पीछे चलने लगी। घर से कुछ दूरी पर सचिन ने हेमा का हाथ पकड़ लिया। यह देख मंदा दोनों को घर ले आई। उन्होंने सचिन के परिजनों को भी बुला लिया। हालांकि सचिन ने किसी की बात नहीं सुनी और मंदा से ही गाली-गलौज कर दी। शराब के नशे में धुत सचिन की हरकतें देख परिजन उसे वहां से ले गए। दीपाली ने बताया कि सचिन लगातार शादी का दबाव बना रहा था। हेमा ने उसे साफ इनकार कर दिया था। इसी बात से नाराज होकर वह हेमा से मारपीट तक पर उतारू हो गया था। मां ने बीच-बचाव किया तो सचिन ने उनसे ही मारपीट और गाली-गलौच कर दी। इसे लेकर हेमा ने सचिन को घर से निकल जाने का कह दिया था।

दीपाली ने बताया कि हमारी बड़ी बहन वैशाली घर पर आई थी। करीब चार बजे मां उसे विदा करने रोड तक छोड़ने गई। इस बीच हेमा ने अंदर से कमरे का दरवाजा लगा लिया। हेमा के दरवाजा नहीं खोलने पर मैंने पापा और मां को बताया। जब हमने खिड़की से झांका तो हेमा फंदे पर लटकी दिखी। इसके बाद दरवाजा तोड़कर हेमा को पकड़ा, तब तक उसकी मौत हो चुकी थी।

'साहब मेरी बेटियां अपने काम से काम रखती थी। हेमा ने सचिन के बारे में पहले बताया था। हमें लगा समझाने पर वह मान जाएगा। कौन पुलिस के चक्कर में पड़े, इसलिए हम इससे दूर रहे। मुझे नहीं पता था कि मेरी बेटी इस कदर परेशान हो चुकी थी। काश मैंने पहले अपने स्तर पर प्रयास करने की जगह पुलिस से शिकायत कर दी होती तो आज मेरी बेटी जिंदा होती। मैं अपनी बेटी के लिए कुछ नहीं कर सका। मेरा तो सबकुछ खत्म हो गया।' यह दर्द हेमा के पिता नारायण बोरादे ने बयां किया।

नारायण पीडब्ल्यूडी में मजदूरी करते हैं। उनकी तीन बेटियों में हेमा सबसे छोटी थी। सबसे बड़ी बेटी वैशाली की शादी हो चुकी है, जबकि दूसरे नंबर की बेटी दीपाली हेमा के साथ ही सेंट स्टीफन स्कूल में थी। हेमा के पेपर चल रहे थे। सोमवार को उसका सामान्य अंग्रेजी का पेपर था।

परिजनों ने जयभीम नगर में रहने वाले सचिन पवार नाम के एक युवक पर छेड़छाड़ और मृतका से शादी का दबाव बनाने के आरोप लगाए हैं। अब तक की पूछताछ में भी उसका नाम सामने आया है। हम सचिन की तलाश कर रहे हैं। जल्द ही उसे गिरफ्तार कर लेंगे।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week