मोदी के विरोध में वृद्ध में आधा सिर मुंडवाया - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

मोदी के विरोध में वृद्ध में आधा सिर मुंडवाया

Tuesday, November 29, 2016

;
कोल्‍लम। नोटबंदी के बाद जहां विपक्ष इसका विरोध कर रहा है वहीं आम जनता भी इससे परेशान है। परे‍शानियों से तंग कुछ लोग अब भी इसका समर्थन कर रहे हैं वहीं कुछ ने अपनी नाराजगी जताई है। ऐसे ही एक वृद्ध हैं केरल के कोल्‍लम के रहने वाले 70 वर्षीय यहिकक्‍का जो एक छोटी होटल चलाते हैं।

यहिया के नाम से पहचाने जाने वाले इस वृद्ध ने अपना आधा सिर मुंडवा लिया है और दावा किया है कि इस आधे मुंडे हुए सिर पर तब तक बाल न हीं उगने देंगे जब तक मोदी सत्‍ता में हैं। उनका दर्द केरल विश्‍वविद्यालय के एक प्रोफेसर ने अपने फेसबुक पोस्‍ट पर बयां किया है।

प्रोफेसर डॉ. अशरु कडक्‍का ने अपनी फेसबुक वॉल पर पूरी कहानी लिखी है। इस कहानी के अनुसार कैसे नोटबंदी ने यहिया की जिंदगी पर असर डाला और ग्राहकी में कमी आई जिसके बाद उसने अपना सिर मुंडवाया।

यह लिखा है पोस्‍ट में
मेरा नाम यहिया है और लोग मुझे याही कहकर बुलाते हैं। मैं 70 साल का हूं और कोल्‍लम जिले के कडक्‍कल मुक्‍कुनम का रहने वाला हूं। मेरी एक पत्‍नी और दो बेटियां हैं। मुझे जब एहसास हुआ की बेटियों की शादी नहीं कर सकता तो मैं सबकुछ बेचकर गल्‍फ चला गया लेकिन वहां अनपढ़ होने की वजह से कुछ नहीं कर पाया।

वापस लौटकर जैसे-तैसे मेंने अपनी बेटी की शादी की। इसके बाद मैंने जिंदगी जीने के लिए आरएमएस फूड स्‍टॉल शुरू किया। मैं खुद अपने होटल में खाना बनाने के साथ परोसने तक का काम करता हूं। होटल में बीफ बनाता हूं और नाइटी पहनकर काम करता हूं। अगर में गुजरात या एमपी में होता तो अब तक फांसी पर लटका दिया जाता।

मैं रोज कमाता और खाता हूं लेकिन पीएम मोदी ने 500 और 1000 के नोट बंद कर दिए। मेरे पास तब 23 हजार रुपए नकद थे जो 500 और हजार के नोटों में थे। मैंने पूरी कोशिश की कि इन्‍हें बदलवा सकूं लेकिन असफल रहा। दो दिन लाइन में खड़े रहने के बाद मेरा ब्‍लड शुगर लेवल कम हो गया और में लगभग बेहोश हो चुका था। कुल लोगों ने मुझे अस्‍पताल पहुंचाया।

मेरे पास सहकारी बैंक से लिए लोन अकाउंट के अलावा कोई बैंक खाता नहीं है लेकिन सहकारी बैंकों को भी फ्रीज कर दिया गया है। अब मैं यह रकम और कहीं जमा नहीं करवा सकता। और कितने दिनों तक मुझे लाइन में खड़ा रहना होगा ताकि में अपने जमा किए पैसे बैंक में रख सकूं।

अस्‍पताल से घर आने के बाद मैंने अपने पूरे 23 हजार रुपयों को आग लगा दी और आधा सिर मुंडवा लिया है। मैंने कसम खाई है कि यह बाल तभी बढ़ेंगे जब पीएम मोदी सत्‍ता से हट जाएंगे।'
;

No comments:

Popular News This Week