कटनी में माफिया खोद ले गया सरकारी गोल्ड की खदान

Thursday, November 3, 2016

जबलपुर/सिहोरा। कटनी जिला मुख्यालय से महज 30 किलोमीटर दूर स्लीमनाबाद के इमलिया गांव में जमीन के अंदर करीब 200 मीटर नीचे सोना होना की पुष्टि कर जगह को चिन्हित किया गया था लेकिन सोना निकालने वाली एजेंसी अपना काम शुरू करती इससे पहले ही चोरों ने रात में खुदाई करके कई डम्पर माल निकाल कर खेप लगा दी। 

जब ग्रामीणों को इसकी भनक लगी तो सोना चोरी करने वालों को खदेड़ा तो वाहन छोड़ कर भाग निकले लेकिन सूचना के बाद भी पुलिस बहुत देर होने के बाद आई । खनन माफियाओं की मशीनें सोने के लालच में जमीन को छलनी कर रही हैं और अफसर मदहोश हैं। ग्रामीणों का कहना है कि शिकायत के बावजूद अधिकारी कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं। 

इसलिए खनन माफियाओं के हौसले बुलंद हैं। आरोप है कि पूरा काम मिली भगत से चल रहा है। उल्लेखनीय है कि ग्राम इमलिया की जमीन में सोना चिन्हित हुआ है। सरकार ने उक्त स्थान को चिन्हित करते हुए अपने कब्जे में तक ले लिया है। हैरानी की बात यह है कि इतना सब कुछ होने के बावजूद अवैध खनन करने वालों को नजरंदाज किया जा रहा है। ग्रामीणों ने एक-दो बार खुद खनन माफिया के लोगों को खदेड़ कर भगाया। देखें खनन का लाइव वीडियो... खनन माफियाओं ने कैसे छलनी कर दी है धरती...।

मुरम की आड़ में निकाल रहे थे सोना
सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार बाक्साइट, आयरन ओर, मुरम की आड़ में खनन माफियाओं ने सोने की चोरी इमलिया में कर दी है। जिसमे बीते 15 दिनों से जेसीबी के माध्यम से रात के अंधेरे में यहां से अनेकों डम्फर मिट्टी को खोदकर गायब कर दिया गया है। सूत्रों के अनुसार 15 दिन से अवैध खनन का कार्य चल रहा है लेकिन प्रशासनिक उदासीनता की वजह से इन्हें खुली छूट मिली हुई है।

1 एकड़ क्षेत्र में हो गई अवैध खुदाई 
इमलिया में जिस स्थान पर सोने की खदान चिन्हित की गई है वहां से महज 200 मीटर की दूरी पर खनन माफियाओं ने यहां सोने की चाहत में सेंधमारी की है। सोने की लालच में हजारों क्विंटल मिट्टी गायब कर दी है। बताया जा रहा है कि माफियाओं ने सरकारी और खेर माई मंदिर के एरिया सहित निजी क्षेत्र में खुदाई की है। सूत्र बताते हैं कि यहां लगभग एक एकड़ के क्षेत्र में खुदाई की जा चुकी है। 

ग्रामीणों ने लगाये मिलीभगत के आरोप
जितेश दुबे व नरेन्द्र सिंह ठाकुर के अनुसार जब अवैध खनन की जानकारी ग्रामीणों को लगी तो उन्होंने चोरो को खदेड़ा। ग्रामीणों को देख खनन माफिया वाहन छोड़ मौके से फरार हो गए। पुलिस को भी बुलाया लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। बताया जा रहा है कि मौके पर रात में एएसआई विजय मिश्रा व तीन आरक्षक पहुंचे थे। अवैध कार्य में वाहन संलिप्त होने के बाद भी उन्हें जब्त नहीं किया गया। सुबह खनन माफिया वाहन लेकर चंपत हो गए। स्लीमनाबाद पुलिस की निष्क्रियता भी कई प्रकार के सवाल खड़े की रही है।

आखिर किसने कराया रात को खनन
जिस जगह को सरकारी अमले द्वारा खोज कर जमीन में सोना होने की पुष्टि कर चिन्हित किया गया था उसी इमलिया गाँव से सोना चोरी करने वाले गिरोह का सरगना का अभी पता नहीं चल सका है। बताया जा रहा है कि किसी कंस्ट्रक्शन कंपनी के वाहनो को इस अवैध कारोबार में लगाये हुए हैं। वाहन किनके यह है उनके नंबरों के आधार पर पता लगाया जा रहा है। लेकिन वही कोई ठोस कार्यवाही करने में ढील करते भी अधिकारी नजर आ रहे हैं।

जानकारी के बाद भी कार्रवाई नही
खनन कर कालाबजारी करने को रोकने की जिम्मेदारी जिस खनिज विभाग और पुलिस को सौंपी तो गई है लेकिन दोनों ही विभाग इस पूरे मामले से पल्ला झाड़ते दिख रहे हैं। जबकि स्लीमनाबाद थाना क्षेत्र में यह अवैध कारोबार फल-फूल रहा है वहां के मुखिया एनपी पांडे को कोई जानकारी नहीं है। इतना ही नहीं खनिज अमला भी इस पूरे मामले से पल्ला झाड़ता दिख रहा है। जिम्मेदारों की उदासीनता का फायदा खनन माफिया जमकर उठा रहे हैं।

1 एकड़ में खुदाई हो गई, खजिन अधिकारी को शिकायत का इंतजार
इस पूरे मामले में उप संचालक खनिज दीपमाला तिवारी का कहना है कि अभी तक स्लीमनाबाद क्षेत्र के ग्राम इमलिया में अवैध खनन किए जाने की सूचना प्राप्त नहीं हुई है। यदि यहां पर कोई अवैध कारोबार हो रहा है और जानकारी लगती है तो सख्त कार्रवाई की जाएगी।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week