मंत्रीजी के लिए रात में खुला बैंक, नोट बदले, विथड्राल भी लिया - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

मंत्रीजी के लिए रात में खुला बैंक, नोट बदले, विथड्राल भी लिया

Thursday, November 17, 2016

;
संभल। पांच सौ व एक हजार के नोट बदलने के लिए आम लोग भले ही दिन भर लाइनों में खड़े होकर धक्के खा रहें हो। मगर खास लोगों के लिए रात में भी बैंकों के दरवाजे खुल जाते हैं। उत्तर प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री बेटों व समर्थकों के साथ रात पौने आठ बजे एचडीएफसी बैंक पहुंचे तो उनके लिए बैंक के दरवाजे खुल गये। मंत्री व समर्थकों ने आराम से नोट बदले और एकाउंट से निकाले भी।

बुधवार को संभल के तमाम बैंकों में करेंसी की कमी थी तो सुबह से लाईनों में नोट बदलने की आस लेकर खड़े ज्यादातर लोगों को निराश होकर वापस लौटना पड़ा। दोपहर बाद जैसे ही साढ़े तीन बजे का वक्त हुआ तो बैंक वालों ने बाहर लाइन लगाये खड़े लोगों को अगले दिन आने की बात कहकर वापस भेज दिया। इस बीच शाम चार बजे एचडीएफसी बैंक में करेंसी आ गई तो इसकी जानकारी खास लोगों तक भी पहुंच गई। 

रात को पौने आठ बजे उत्तर प्रदेश सरकार के औषधि प्रशासन खाद्य रसद मंत्री इकबाल महमूद अपने तीनों बेटों, अन्य समर्थकों व स्टाफ के साथ आर्य समाज रोड पर एचडीएफसी बैंक शाखा पर जा पहुंचे। मंत्री जी का काफिला आया देख बैंक का दरवाजा खोल दिया गया। आम जनता के लिए बैंक का समय खत्म हो गया था मगर जब खास आये तो काम शुरू हो गया। मंत्री इकबाल महमूद और उनके बेटों व अन्य लोगों ने बैंक से अपनी नकदी बदल ली।

इसके बाद मंत्री जी व उनके समर्थक सवा आठ बजे बैंक शाखा से वापस लौट गये। इस बाबत कैबिनेट मंत्री इकबाल महमूद ने कहा कि मेरे पास पैसे नहीं थे तो पैसे लेने के लिए बैंक गया था। खुद आया था और दो बेटे भी साथ थे। मैं जब गया तो बैंक तो खुला था और वहां कर्मचारी मौजूद थे आमजनता की तरह लाइन में लगकर ही पैसे बदले। इसके साथ ही कैबिनेट मंत्री इक़बाल महमूद ने पीएम के इस फैसले को गलत बताते हुए कहा कि सारी जनता इस फैसले से दुखी है इससे अगर खुश है तो केवल पीएम खुद। 

वहीं, बैंक शाखा प्रबंधक मोहम्मद जावेद खान का कहना है कि सामान्य रूप से बैंक का समय सुबह साढ़े नौ से दोपहर बाद साढ़े तीन बजे तक का लेनदेन के लिए है। बुधवार को दिन में कैश नहीं था। शाम को चार बजे कैश आया तो बैंक लाइन निकलने के बाद भी कैश बदलकर दे दिया गया। जब उनसे पूछा गया कि केवल मंत्री जी को ही क्यूं दिया आम जनता को क्यों नहीं तो मैनेजर के पास इसका कोई जवाब नहीं था।
;

No comments:

Popular News This Week