नोट की चोट: विदेशी पर्यटक बोले, अब इंडिया नहीं आएंगे

Wednesday, November 9, 2016

;
आगरा। प्रधानमंत्री मोदी ने अचानक 500 एवं 1000 के नोटों पर प्रतिबंध तो लगा दिया लेकिन इसका सीधा असर भारत में मौजूद विदेशी पर्यटकों पर भी पड़ा। उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। यहां तालमहल की छांव में वक्त गुजारने आए विदेशी पर्यटक टिकट काउंटरों पर ही अटककर रह गए। 500 के नोट स्वीकार नहीं किए जा रहे और ताजमहल के टिकट काउंटर पर कार्ड पेमेंट की सुविधा ही नहीं हैं। विदेशी पर्यटक बिना ताजमहल देखे लौट गए। 

100 के नोटों की कालाबाजारी शुरू
सुबह से ही ताजमहल के टिकट काउंटर पर विदेशी पर्यटक गुस्‍से में थे। किसी के पास छोटे नोट नहीं थे। वे टिकट नहीं ले पा रहे थे। ताजमहल में देसी पर्यटकों के लिए टिकट 50 रुपए और विदेशी पर्यटकों के लिए 100 रुपए है। विदेशी पर्यटक जब दो-तीन लोगों के साथ ताज देखने पहुंचते हैं। ऐसे में तीन टिकट के लिए उन्‍हें 100 रुपए के तीन नोटों की जरूरत पड़ रही है। इसीलिए कुछ लोगों ने यहां सौ के नोट की कालाबारी शुरू कर दी है। कुछ स्‍थानीय लोग तो 500 रुपए का नोट लेकर 100 रुपए के 4 नोट पर्यटकों को बेच रहे हैं।

पर्यटन बोले- अब वापस इंडिया नहीं आएंगे
ब्रिटेन से आए 55 साल के पर्यटक डेविड अपनी पत्‍नी और बच्‍चे के साथ ताजमहल के टिकट काउंटर पर 3 घंटे तक खड़े रहकर वापस लौट गए। उन्‍होंने कहा कि इंडियन गवर्मेंट ने हमारे साथ और सबके साथ गलत किया है। अचानक 500 और 1000 रुपए के नोट बैन करने से वह ताज नहीं देख पा रहे हैंं। अब वापस इंडिया नहीं आएंगे।
;

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Popular News This Week