कालीकमाई हड़पने टीआई ने थाने में फर्जी कोर्ट लगा डाली - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

कालीकमाई हड़पने टीआई ने थाने में फर्जी कोर्ट लगा डाली

Tuesday, November 29, 2016

;
नई दिल्ली। एक टीआई ने थाने में फर्जी कोर्ट लगाई, खुद जज बनकर बैठ गया। हेडकांस्टेबल ने 1 करोड़ रुपए की काली कमाई के साथ आरोपी को पेश किया। फर्जी कोर्ट ने 75 प्रतिशत जुर्माना लगाया और आरोपी को छोड़ दिया। खुलासा तो तब हुआ जब सीनियर आॅफीसर्स ने खुद मामले की जांच की। 

यहां से शुरू हुई कहानी
नोटबंदी के बाद उत्तरी पश्चिमी दिल्ली के जहांगीपुरी इलाके में देशी शराब बेचने वाली कंचन (बदला हुआ नाम) के कानों में एक आवाज़ सुनाई दी, "क्या करूं पैसे हैं कि खत्म नहीं होता, पूरा 1 करोड़ है" यह सब कंचन के पास रहने वाला टीटू कबाड़ी बोल रहा था, शुरू में कंचन को लगा कि टीटू ने शराब पी रखी है इसलिए ऐसा बोल रहा है, लेकिन जब टीटू की बात पर शक हुआ तो महिला ने अपने इलाके के बीट कांस्टेबल को इसकी जानकारी दे दी.

पुलिस ने छापा मारा 
बीट कांस्टेबल कबाड़ी के घर पहुंचा और तलाशी ली तो पैसों से भरा एक बैग मिला, पुलिसकर्मी इतनी बड़ी रकम देखकर भौंचक्का रह गया. उसने तुरंत टीटू कबाड़ी को हिरासत में लिया और रुपये भी अपने कब्ज़े में ले लिये.

दूसरी शिकायत के बाद शुरू हुई जांच
उसके बाद यह मामला यहीं दब गया होता, लेकिन कंचन ने शिकायत दर्ज कराई कि एक कबाड़ी से मिले करीब 1 करोड़ रुपये पुलिस ने गायब कर दिए हैं.यह मामला जब सीनियर अधिकारियों के पास पहुंचा तो जहांगीरपुरी थाने के एसएचओ ने अपने अधिकारियों को बताया कि शिकायत करने वाली महिला ठीक नहीं है. वह अक्सर पुलिसवालों के खिलाफ शिकायत करती रहती है, यहां तक कि पुलिसवालों ने महिला का एक स्टिंग भी कर लिया, जिसमें वह पुलिसवालों से 2 लाख रुपये मांग रही थी.

जांच अधिकारी को मिसगाइड किया 
शुरू में मामले को इसी आधार पर दबाने की कोशिश की गई, लेकिन मामले की जांच करने वालों से जब पुलिस के एक बड़े अधिकारी ने कहा, टीटू कबाड़ी को लेकर आओ. इसके बाद जांच टीम जब जहांगीरपुरी थाने पहुचीं तो उन्हें बताया गया कि बयान लेने के दौरान उसका पता इसलिए नहीं लिखा गया क्योंकि वह कबाड़ी है. कभी यहां रुकता है कभी वहां ,ऐसे में उसका कोई स्थाई पता नहीं है. बस इतना पता चल सका कि वह पश्चिम बंगाल के 24 परगना इलाके का रहने वाला है.

जांच टीम ने ढूंढ निकाला पूरा सच
जांच टीम से जुड़े अधिकारी ने फ्लाइट पकड़ी और टीटू कबाड़ी की तलाश में 24 परगना पहुंच गए, किस्मत से उन्हें टीटू कबाड़ी भी मिल गया. टीटू कबाड़ी ने जो उसे बताया वह हैरान करने वाला था. उसने बताया कि "पूरे पैसे के साथ पुलिसकर्मी उसे थाने ले गए. वहां एक कोर्ट में उन्हें पेश किया गय़ा, जो जज साहब थे उन्होंने मुझ पर जुर्माना लगाया, जुर्माने के पैसे मैंने कोर्ट में जमा कर दिए. कुछ पैसे देकर मुझे पुलिसवालों ने कहा कि तुम फ़ौरन अपने घर चले जाओ और अब मत आना, नहीं तो पकड़े जाओगे."

कचरे में मिला था 1 करोड़ का बैग
दरअसल, ये जज कोई और नहीं था, बल्कि जहांगीरपुरी थाने का एसएचओ था, जिसने कबाड़ी की रकम हड़पने के लिए और उसे डराने के लिए थाने में अदालत लगा दी और जज बन गया.टीटू कबाड़ी ने यह भी कहा कि एक बैग उसे तब मिला जब वह अपने कबाड़ का थैला एक जगह रखकर आसपास कबाड़ बीन रहा था. वह थैला लेकर अपने घर आ गया और जब थैले से कबाड़ निकालने लगा तो उसे पैसों से भरा एक बैग मिला.

टीटू के मुताबिक, इतने पैसे उसने कभी नहीं देखे थे. शुरू में उसने पैसे शराब, कपड़े, घड़ी लेने और दूसरे कामों में खर्च किए. लेकिन, जब पैसे खर्च नहीं हो रहे थे तो उसने अपने कुछ रिश्तेदारों को भी बुला लिया, लेकिन नोटबंदी की वजह से पुराने नोट नहीं लिए जा रहे थे. इसी बीच टीटू ने शराब के नशे में नोट की चर्चा कर दी और फिर वह मुश्किल में फंस गया.

इनाम नहीं मिला इसलिए की शिकायत
वहीं, पुलिसकर्मियों की शिकायत करने वाली महिला ने बताया कि पुलिसवालों ने उसे भी बरामद हुए पैसों से कुछ पैसे देने का वादा किया था, लेकिन बाद में उन्होंने उसे पैसे नहीं दिए. शायद यही वजह है कि महिला शिकायत लेकर पहुंच गई. फिलहाल जहांगीरपुरी थाने के एसएचओ समेत कई पुलिसकर्मियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है और जांच जारी है.

यह अकेला मामला नहीं है. नोटबंदी के बाद दिल्ली में ऐसे कई मामले सामने आए हैं जहां पुलिसकर्मी शक और संदेह के दायरे में हैं. सूत्रों के मुताबिक, नोटबंदी के बाद दिल्ली की विशेष शाखाएं हवाला कारोबारियों की धरपकड़ कर रही है और उनसे पैसे ऐंठ रही है. कई कारोबारी कैश के साथ पकड़े जा रहे हैं. उनके रुपयों की भी बन्दरबांट की जा रही है, सिर्फ दिल्ली ही नहीं कई और शहरों में भी पुलिसकर्मियों के नाम इस तरह के मामले सामने आए हैं.
(सूत्रों पर आधारित मुकेश सिंह सेंगर की विशेष रिपोर्ट)
;

No comments:

Popular News This Week