शादी के लिए 2.5 की निकासी: राहत कम, आफत ज्यादा - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

शादी के लिए 2.5 की निकासी: राहत कम, आफत ज्यादा

Tuesday, November 22, 2016

;
नई दिल्ली: नोटबंदी का आज 14वां दिन है. बैंक और एटीएम की लाइन में देश अब भी खड़ा हुआ है. नोटबंदी से सबसे ज्यादा मुसीबत उनकी हो रही है जिनके घरों में शादी है. सरकार ने शादी वाले घरों को ढाई लाख रुपये बैंक से निकालने की राहत दी है, लेकिन रिजर्व बैंक के नए आदेशों के बाद ये राहत कम और आफत ज्यादा लग रही है. शादी की राहत पर विरोधी भी मोदी सरकार को घेर रहे हैं.

प्रधानमंत्री ने वादा किया था कि नोटबंदी के बाद बेईमानों की तो खैर नहीं मगर जो ईमानदार हैं उन्हें परेशान नहीं किया जाएगा. लेकिन आरबीआई की नई गाइडलाइन पर अगर आप नजर डाल लें तो पसीने छूट जाएंगे. सरकार की तरफ से शादी के लिए ढाई लाख रुपये निकालने की छूट देने के चार दिन बाद अब आरबीआई ने इसको लेकर गाइडलाइन जारी की है. इसमें कहा गया है कि…

जिनके घर में शादी है वो 30 दिसंबर तक अपने अकाउंट से 2.5 लाख रुपए निकाल सकते हैं. 
बशर्तें आपके अकाउंट में ये पैसा 8 नवंबर से पहले जमा हुए हों. 
वहीं पैसा तभी निकाल पाएंगे जब शादी 30 दिसंबर या उससे पहले हो. 
पैसा या तो दूल्हा-दुल्हन या फिर उनके माता-पिता में से एक व्यक्ति ही निकाल पाएगा. 
वर-वधु पक्ष अलग अलग 2.5 लाख रुपए निकाल सकते हैं.
ये स्थापित होना चाहिए कि जिन लोगों को ये पैसा दिया जाना है, उनके बैंक अकाउंट नहीं हैं.
प्रमाण के तौर पर शादी का कार्ड, शादी से जुड़े खर्चों में एडवांस पेमेंट की रसीद भी देनी होगी.
शादी के कार्ड के साथ वर-वधु की पूरी जानकारी भी देनी होगी.

मौटे तौर पर समझें तो अगर आपने शादी के लिए कुछ पैसे जमा करके रखे थे और नोटबंदी के बाद ये सोचकर उन्हें अपने अकाउंट में जमा कर चुके हैं कि बैंक से नए नोट ले लेंगे तो अब वो पैसा आप नहीं निकाल सकते. यही नहीं फूलवाले, बिजली वाले बाजा वाले, नाई, हलवाई जैसे हर उस शख्स से आपको नकद भुगतान के बदले रसीद लेनी होगी या फिर लिखवाना होगा कि उसके पास बैंक अकाउंट नहीं हैं. कुल मिलाकर कहानी ये है कि अब आपको हर कौड़ी का हिसाब रखना होगा वरना आपकी खैर नहीं.

टीम इंडिया के पूर्व खिलाड़ी संदीप पाटिल भी परेशान
टीम इंडिया के धुरंधर बल्लेबाज, कोच और चीफ सेलेक्टर रह चुके संदीप पाटिल को बैंक से ढाई लाख रुपए निकालने में पसीने आ गए हैं. मुंबई में बेटे की शादी है, लेकिन बैंक से छोटे मोटे खर्चों के लिए ढाई लाख रुपये नहीं निकाल पा रहे हैं.

दिल्ली के आदर्श नगर में रहने वाले सुशील की बहन की शादी 26 नवंबर की है, लेकिन खर्चे के लिए ये अपने पिता जरनैल के साथ कई दिन से बैंक की लाइन में लग रहे हैं. दोनों परेशान हैं कि शादी कैसे होगी ?

गाजियाबाद के गोविंदपुरम में रहने वाले रमानंद गोयल की बेटी श्वेता की भी 26 नवंबर को शादी है,  आज सगाई है, पर घर पर खर्च करने के लिए पैसे नहीं हैं. बैंक जा जा कर ये भी थक चुके हैं. मुंबई के अंधेरी में तो खुद दूल्हा पिछले चार दिनों से बैंक के चक्कर काट रहा है, इस उम्मीद से कि शादी का कार्ड दिखाकर उसे ढाई लाख रुपए मिल जाएंगे, पर अभी तक वो खाली हाथ ही हैं.

आरबीआई के इस अजीबोगरीब दिशानिर्देशों पर सरकार के विरोधी भी सवाल उठा रहे हैं. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर लिखा है, ‘’सालियों को जूता चुराई के रुपए देंगे तो सालियों की लिस्ट बैंक को दें और साबित करें कि सालियों का बैंक अकाउंट नहीं है. सालियां रसीद देंगी.’’

Arvind Kejriwal ✔ @ArvindKejriwal
सालियों को जूता चुराई के रुपए देंगे तो सालियों की लिस्ट बैंक को दें और साबित करें कि सालियों का बैंक अकाउंट नहीं। सालियाँ रसीद देंगी 

यही नहीं सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल ने भी आरबीआई के इस फरमान पर चुटकी ली है. उन्होंने कहा है, ‘’मैंने शादी के खर्चों पर आरबीआई का सर्कुलर देखा है. ये बहुत जटिल है. मेरी राय में तो दूल्हा या दुल्हन को अभी शादी टाल देना चाहिए.
;

No comments:

Popular News This Week