मैं होता तो संघ प्रचारक मामला यहां तक नहीं पहुंच पाता: IPS डीसी सागर

Saturday, October 15, 2016

भोपाल। बालाघाट में हुए संघ प्रचारक सुरेश यादव पिटाई कांड के मामले में तत्कालीन आईजी डीसी सागर का कहना है कि यह दुर्भाग्यपूर्ण रहा कि मैं उस दिन अपनी रेंज में नहीं था। डीजीपी के आदेश पर मैं जबलपुर भर्ती में मौजूद था। यदि मैं वहां होता तो यह मामला यहां तक पहुंच ही नहीं पाता। बीते रोज पिटाई कांड की जांच कर रही एसआईटी के सूत्रों ने निष्कर्ष लीक किए। इसमें बताया गया था कि बालाघाट एसपी निर्दोष हैं, परंतु आईजी मामले में संलिप्त पाए गए हैं। आईपीएस डीसी सागर का कहना है कि यह खबर गलत है। 

आईपीएस डीसी सागर ने भोपाल समाचार से हुई बातचीत में बताया कि दिनांक 23 सितम्बर से 30 सितम्बर तक मैं माननीय डीजीपी साहब के आदेश जबलपुर में चल रही भर्ती में ड्यूटी पर था, क्योंकि जबलपुर के आईजी अवकाश पर थे। इस दौरान हमने 4 मुन्नाभाईयों को भी पकड़ा। जिस दिन यह घटना हुई, उस दिन मैं अभ्यर्थियों के बीच में था। उनका उत्साहवर्धन कर रहा था। जबलपुर के लोकल अखबारों में खबरें भी छपी हैं। 

श्री सागर ने बताया कि मुझे तो घटना की जानकारी तब दी गई जब सारा मामला बिगड़ चुका था। यदि समय रहते मेरे पास सूचना आ गई होती तो मामला इतना बिगड़ता ही नहीं। उन्होंने यह भी बताया कि आईजी के अलावा एसपी को भी अंधेरे में रखा गया। यदि एसपी को जानकारी होती तो भी हम लोग स्थिति को संभाल लेते। सब कुछ हो जाने के बाद हम अपने स्तर पर जो भी उचित कार्रवाई कर सकते थे, हमने की। 

बता दें कि ये वही आईपीएस अधिकारी हैं जिन्होंने नक्सली इलाकों में दहशत बरपा रखी थी। आईजी डीसी सागर और एसी असित यादव के बीच बेहतर तालमेल का ही परिणाम था कि बालाघाट में लंबे समय से वांटेड चल रहे कई नक्सलवादी पकड़े गए और कई प्रमुख राज खुलकर सामने आ पाए। कई बड़ी घटनाओं को रोका जा सका और दर्जनों नक्सलियों को सरेंडर कराकर मुख्यधारा में शामिल करने की प्रकिया पर काम हुआ। निश्चित रूप से यह टॉस्क, किसी अपराधी का एनकाउंटर कर देने से ज्यादा मुश्किल होता है। 

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


Popular News This Week

खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं