महिला आईएएस का मैसेज: आॅटो वाले ने मुझे किडनैप कर लिया, मुझे बचाओ

Saturday, October 22, 2016

;
नईदिल्ली। गाजियाबाद निवासी एक महिला आईएएस रानी नागर ने अपने परिजनों को वाट्सएप और फेसबुक पर मैसेज किया कि आॅटो वाले ने मुझे किडनैप कर लिया है, मुझे बचाओ। तत्काल मामला पुलिस के पास पहुंचा। हड़कंप मच गया। हापुड़ चुंगी पर आॅटो चालक को पकड़ लिया गया। देखा तो आॅटो में एक बुजुर्ग दंपत्ति और एक युवक भी सवार है। आॅटो वाले का कहना है कि पैसे बचाने के लिए वो शार्टकट से जा रहा था। 

एसएचओ सिहानी गेट अवनीश गौतम ने बताया कि 2013-14 बैच की हरियाणा कैडर की आईएएस रानी नागर इन दिनों दिल्ली सचिवालय में सहायक सचिव के पद पर तैनात होते हुए एक ट्रेनिंग प्रोग्राम में भाग ले रही हैं और उद्योग भवन रोड स्थित सरकारी आवास में रहती हैं।

शुक्रवार को ड्यूटी खत्म होने के बाद वह वीकेंड पर गाजियाबाद स्थित परिजनों से मिलने सचिवालय मेट्रो स्टेशन से शाम सात बजे चली थीं। वह रात आठ बजे वैशाली मेट्रो स्टेशन पहुंचीं। वहां उन्होंने प्रीपेड ऑटो किया। ऑटो पर एक बुजुर्ग दंपति व एक अन्य युवक भी सवार हुए। ऑटो चालक ने स्टेशन से करीब चार किलोमीटर आगे चलकर ऑटो को साहिबाबाद औद्योगिक क्षेत्र की ओर मोड़ दिया। यह इलाका सुनसान होने की वजह से रानी को चालक पर शक हुआ। उन्होंने ऑटो को लिंक रोड पर लाने को कहा पर वह माना नहीं। तो रानी ने शोर मचाना शुरू कर दिया। वहां से गुजर रहे पांच प्राइवेट गार्ड्स ने ऑटो चालक को पकड़ा और उसे मोहननगर के रास्ते हापुड़ चुंगी जाने को कहा।

चालक उनकी बात मानते हुए मोहननगर के रास्ते चल पड़ा। इसी दौरान ऑटो में बैठी रानी नागर ने व्हाट्सएप और फेसबुक के माध्यम से परिजनों और गाजियाबाद पुलिस को अपने अगवा होने की सूचना दे दी। हापुड़ चुंगी पर बहन का इंतजार कर रहे चमन नागर और भाई सचिन ने ऑटो चालक को दबोचकर पुलिस के हवाले कर दिया। रानी नागर ने ऑटो चालक के खिलाफ अगवा करने की कोशिश और जानमाल का खतरा बताते हुए सिहानी गेट थाने में तहरीर दी है।

वहीं, इस संबंध में एसएचओ का कहना है कि पुलिस आरोपी चालक को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। बताया गया कि रानी नागर 2015 में हरियाणा के अंबाला में असिस्टेंट डिप्टी कमिश्नर और गुड़गांव हाईपा में तैनात रही हैं। वह मूलरूप से बादलपुर ग्रेटर नोएडा की रहने वाली हैं। 
;

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Popular News This Week