तिरंगा फहराने वाले मुस्लिम धर्मगुरू के खिलाफ फतवा जारी

Sunday, October 9, 2016

;
उत्तराखंड। सितारगंज में मुस्लिम धर्मगुरु सैयद शाह मोहम्मद ताहिर मियां को उर्स में तिरंगा फहराने और राष्ट्रगान गाने का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। बरेली के मुफ्ती मोहम्मद अफजाल रिजवी मरकजी दारुल इफ्ता ने इसके लिए उनका हुक्का-पानी बंद करने का फतवा जारी कर दिया है। हालांकि, उनके समर्थक इस फतवे के विरोध में उतर आए हैं। शनिवार को उन्होंने जुलूस निकालकर इसका विरोध किया और कोतवाली जाकर घटना की तहरीर सौंपी।

सितारगंज के नकहा नया गांव के वजुल कमर के नेतृत्व में कोतवाली पहुंचे लोगों ने पुलिस को तहरीर देते हुए कहा कि गांव के सैयद शाह मोहम्मद ताहिर मियां उनके धर्मगुरु हैं। 15 अगस्त को गांव में खानाकाह आलिया अहमदिया कादरिया रज्जाकिया चिश्तिया साबरिया की दरगाह पर उर्स का आयोजन किया गया था। इसमें हजारों लोगों ने शिरकत की थी। 15 अगस्त को उनके धर्मगुरु ने देश की शान में तकरीरें की। इस दौरान राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया और राष्ट्रीय गान गाया गया।

धर्मगुरु ने मुल्क की तरक्की की दुआ मांगी और राष्ट्रहित में नारे लगवाए। आरोप है कि गांव के ही तीन लोगों ने इस कार्यक्रम का विरोध किया और धर्मगुरु को गद्दार और काफिर बताया। बाद में तीनों ने इस आयोजन की शिकायत पर बरेली के मुफ्ती मोहम्मद अफजाल रिजवी मरकजी दारुल इफ्ता मोहल्ला सौदागरान व मोहम्मद अफरोज आलम नूरी बरेलवी, खादिम तदरीस व इफ्ता जामिया रिजविया मंजरे इस्लाम बरेली ने उनके धर्मगुरु के खिलाफ फतवा जारी कर दिया।

फतवा में उनके गुरु का हुक्का-पानी बंद करने का फरमान जारी किया गया है। लोगों ने कहा कि उनके धर्मगुरु के खिलाफ फतवा जारी करने का मतलब उनके हजारों अनुयायियों के खिलाफ भी फतवा है। उन्होंने राष्ट्रगान का भी अपमान किया है। तहरीर में कहा गया है कि तीनों आरोपी उनके परिवार को धमकियां दे रहे हैं। जिन लोगों ने फतवा जारी किया है उनसे उनके धर्मगुरु की जान को खतरा है।

पुलिस से शिकायत करने वाले प्रतिनिधिमंडल में नकहा नया गांव के इरफान, नसीब, इकरार, इजाज, इशरत हुसैन, मोहम्मद आरिफ, इरशाद, जाकिर हुसैन, गुलाम, इश्हाक अहमद, राशिद आदि शामिल थे। ऊधमसिंह नगर के एसएसपी डी सैंथिल अबूदई ने बताया कि इस घटनाक्रम की तहरीर प्राप्त हुई है। बरेली से जारी फतवे के साथ ही तहरीर की गंभीरता से जांच कराई जा रही है। जांच में जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

हमें बदनाम करने के लिए कुछ लोग साजिश रच रहे हैं
मुस्लिम धर्मगुरु सैयद शाह मोहम्मद ताहिर मियां का कहना है कि हमें बदनाम करने के लिए कुछ लोग साजिश रच रहे हैं। मेरे तिरंगा फहराने पर उन लोगों ने बरेली के मुफ्ती से मेरी शिकायत की है, जिसके आधार पर हमारा हुक्का-पानी बंद करने का फतवा जारी किया गया है। हमने बरेली के मुफ्ती को इस फतवे पर पत्र लिखकर जवाब भी मांगा है पर उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। हमने उनसे पूछा है कि देशहित में राष्ट्रध्वज फहराना या नारे लगाना गुनाह कैसे हो गया?
;

No comments:

Popular News This Week