इतना है, 'आरक्षण' के दम पर मोदी के मंत्री बने कुलस्ते का सामान्य ज्ञान

Saturday, October 15, 2016

भोपाल। मप्र के भाजपा नेता फग्गन सिंह कुलस्ते आदिवासियों की राजनीति करते हैं। इसी राजनीति के दम पर वो आज तक तमाम प्रमुख पदों पर पहुंच पाए हैं। यहां तक कि लोकसभा का टिकट हासिल किया और मोदी लहर में जीत भी गए। इतना ही नहीं आदिवासी हैं, इसलिए मोदी मंत्रीमंडल में शामिल किए गए। इन दिनों केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री के पद का लाभ उठा रहे हैं। अब इनका सामान्य ज्ञान देखिए। कुलस्ते का कहना है कि हमारे देश में शादी के तीन साल बाद ही पहला बच्चा पैदा करने का कानून है।

मध्यप्रदेश की शहडोल लोकसभा सीट पर उपचुनाव होने हैं। यह सीट आदिवासी वोटर्स से भरी पड़ी है। इसीलिए कुलस्ते को यहां भेजा गया। इसी दौरान पत्रकारों ने माननीय मंत्रीजी से कुपोषण से जुड़ा सवाल पूछ लिया। इस सवाल के जवाब में मंत्री कुलस्ते ने कहा कि लोग सरकार के शादी के तीन साल बाद बच्चा पैदा करने के कानून का पालन नहीं करते है। जब लोग इसका पालन नहीं करते तो सरकार क्या कर सकती है।

उन्होंने कहा कि पहले बच्चे और दूसरे बच्चे के बीच तीन साल के अंतर का भी प्रावधान है। इस प्रावधान को मानकर यदि तीन-तीन साल के अंतर से लोग बच्चा पैदा करेंगे तो इससे जच्चा और बच्चा दोनों सुरक्षित रहेंगे।
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इसके लिए माहौल बनाने की जरूरत है और सरकार इस दिशा में प्रयास कर रही है। 

अब बारी आपकी है। नीचे दिया गया कमेंट बॉक्स पेज की साज सज्जा के लिए नहीं है। अपने जागरुक नागरिक होने का प्रमाण दीजिए, ताकि बात उन कानों तक भी पहुंचे, ​जहां से इन्हे लालबत्तियां मिल जातीं हैं। वर्ग विशेष की प्रगति के लिए आरक्षण जरूरी है, लेकिन पद पर पहुंचने के लिए योग्यता का भी तो कोई पैमाना होना चाहिए। 

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week