पीएचई विभाग के समन्वयकों से सौतेला व्यवहार क्यों - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

पीएचई विभाग के समन्वयकों से सौतेला व्यवहार क्यों

Sunday, October 30, 2016

;
प्रति,
संपादक महोदय 
भोपाल समाचार 
महाराणा प्रताप नगर भोपाल 

श्रीमान संपादक महोदय जी को में में बताना चाहता हूं कि प्रार्थी मुरैना जिले से हूं। प्रार्थी वर्तमान में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग में विकासखंड समन्वयक मुरैना के पद पर कार्यरत है। श्रीमान जी वर्तमान में पूरे मध्य प्रदेश में 313 विकासखंड समन्वयक है। इनकी भर्ती जल सहायता संघटन, राज्य जल मिशन लोक स्वास्थ्य यांत्रिकीय विभाग द्वारा 03 वर्ष पूर्व संविदा पर की गयी थी। जिस तरह पंचायत एवम ग्रामीण विकास विभाग में स्वछ भारत मिशन के विकासखंड समन्वयको को पदस्थ किया गया है उसी तरह राष्ट्रिय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम के उद्देश्य हेतु लोक.स्वा या. विभाग द्वारा भी 03 वर्ष पूर्व संविदा पर विकासखंड वार समन्वयको की नियुक्ति और जिले वॉर जिला समन्वयको की नियुक्ति की गयी थी। 

श्रीमान जी वर्तमान में हमारा मानदेय मात्र 12700 प्रति माह है। जो की अत्यंत कम है। जबकि स्वच्छ भारत मिशन के समन्वयको का मानदेय लगभग 25000 प्रति माह है और श्रीमान जी हमारा ईपीएफ कटोत्रा भी नहीं किया जाता है। इसी प्रकार अन्य विभागो में भी मानदेय लगभग 25000 से ऊपर है। श्रीमान जी 12700 में आप कौन सा ग्रेड पर और पैस्केल की कल्पना कर सकते है। इतना तो चतुर्थ क्षेणी कर्मचारी की भी नहीं है। हम कई बार विभाग प्रमुख को इस बाबत मिल चुके है लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है। वर्तमान परिदृश्य को देखते हुए इतने कम रुपये में आप कैसे जीवन यापन कर सकते है। जब की हमारे माननीय मुख्यमंत्री जी स्वर्णिम मध्यप्रदेश की बात करते है।

श्रीमान जी में भोपाल समाचार नियमिय पाठक और और आपकी पत्रकारिता से बहुत प्रेरित हूं। ..उम्मीद करता हूं कि इसे आप  ध्यानकर्षण करेंगे  

भवदीय
RAJESH SINGH DHAKAD MURENA 
9981585061
;

No comments:

Popular News This Week