10 दिन की शादी का अंत आत्महत्या

Sunday, October 23, 2016

;
ग्वालियर। शादी तो धूमधाम से की थी। वचन भी 7 जन्मों के ही थे लेकिन शादी 10 दिन से ज्यादा नहीं चल पाई। मायके गई पत्नी तो लौटकर ही नहीं आई। बुलाने गया तो दहेज एक्ट के तहत एफआईआर हो गई। क्या करता। जेल में जिंदगी भर सड़ने से बेहतर सुसाइड करना लगा। वो फांसी पर झूल गया। 

ग्वालियर के माधौगंज इलाके में रहने वाले मुकेश कुशवाह ने अपने कमरे में पंखे में फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली। मुकेश के काफी देर तक कमरे से बाहर नहीं निकलने पर मकान मालिक ने अंदर झांककर देखा तो उसका शव पंखे से लटका हुआ था। मूल रूप से भिंड का रहने वाला मुकेश कुशवाह ग्वालियर में किराए के मकान में रहकर बीडीएस की पढ़ाई कर रहा था। मुकेश की इसी साल जनवरी में उमा नाम की युवती से शादी हुई थी। शादी के 10 दिन बाद ही उमा ने मुकेश का साथ छोड़ दिया था।

बताया जा रहा है कि, पत्नी के इस कदम ने मुकेश को बेहद आहत कर दिया था। वह पत्नी को घर लाने की कोशिशों में जुटा रहा, लेकिन हर बार उसे नाकामी ही हाथ लगी। इसी दौरान माया ने मुकेश पर दहेज प्रताड़ना का केस दर्ज करा दिया। पत्नी के इस कदम ने मुकेश को पूरी तरह से तोड़कर रख दिया। उसने अपना ये दर्द चार पेज के सुसाइड नोट में बयां किया है, जिसे पुलिस ने कब्जे में ले लिया है।

मुकेश ने पत्नी को खराब औरत बताते हुए सुसाइड नोट में लिखा कि, उसने मेरा जीना मुश्किल कर दिया था. मैंने समझौता करने की बहुत कोशिश की। अब जीने का कोई मतलब नहीं है। माधौगंज पुलिस ने केस दर्ज कर मामले की तफ्तीश शुरू कर दी है। जांच अधिकारी के अनुसार, सुसाइड नोट के आधार पर पूरे मामले की जांच की जाएगी।
;

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Popular News This Week