शिक्षा विभाग: अब SMS से भी कर सकते हैं छुट्टी का आवेदन

Sunday, September 25, 2016

;
भोपाल। प्रदेश के प्रायमरी और मिडिल स्कूलों के शिक्षक विशेष परिस्थितियों में अपने न आने की सूचना ई-मेल और एसएमएस के माध्यम से भी दे सकेंगे। हालांकि अवकाश लेने के लिए पहले से आवेदन देना जरूरी होता है, लेकिन 'शाला सिद्धि" के तहत यह प्रावधान किया गया है।

प्रदेश में 1 लाख 14 हजार प्रायमरी और मिडिल स्कूल हैं, जहां तीन लाख शिक्षक पदस्थ हैं। स्कूल शिक्षा विभाग ने स्कूलों में शिक्षकों की उपस्थिति को लेकर स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि प्राचार्य उपस्थिति का रिकॉर्ड हमेशा अपडेट रखें। अगर ऐसा नहीं होता तो शाला के प्रधान इसके लिए जिम्मेदार होंगे। स्कूलों में निरीक्षण के दौरान हमेशा इस तरह की शिकायतें आती हैं कि शिक्षक बिना सूचना के अनुपस्थित रहते हैं। स्थिति को दुस्र्स्त करने के लिए विभाग इस तरह की व्यवस्था कर रहा है।

आने-जाने के समय करेंगे हस्ताक्षर
स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने बताया कि शिक्षक उपस्थिति रजिस्टर में शाला प्रमुख सहित सभी पदस्थ शिक्षकों को आने-जाने दोनों समय हस्ताक्षर करना होंगे। इसी के साथ यह प्रावधान भी किया गया है कि स्कूल शुरू होने के निर्धारित समय से आधा घंटे के बाद शिक्षक उपस्थिति रजिस्टर अंतिम रूप से पूरा हो जाना चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता तो स्टाफ के साथ शाला के प्रमुख पर कार्रवाई की जाएगी। इसमें वेतन काटने के साथ, निलंबन तक की कार्रवाई की जा सकती है।

आवेदन पत्र देना जरूरी
यह व्यवस्था की गई है कि स्कूल में शिक्षक अगर अवकाश लेते हैं तो इसकी पूर्व सूचना आवेदन पत्र के माध्यम से दी जाएगी। विशेष परिस्थितियों में जैसे अचानक बीमार पड़ने या अन्य किसी कारण से न आ पाने की दशा में एसएमएस, ई-मेल, फोन और एम शिक्षा मित्र एप पर दी गई सूचना भी मान्य की जाएगी। इसका उल्लेख शिक्षक उपस्थिति रजिस्टर में करना अनिवार्य रहेगा।

बिना सूचना के गायब रहने पर कार्रवाई
यह प्रावधान भी किए गए हैं कि अगर कोई शिक्षक बिना सूचना के अनुपस्थित हैं तो शाला प्रमुख अपने स्तर पर यह पता करेंगे कि शिक्षक की अनुपस्थिति की वजह क्या है। अगर उचित कारण नहीं है तो संबंधित शिक्षक की लिखित शिकायत जनशिक्षा केंद्र प्रभारी को देना होगी। इसी के साथ शिक्षक के न आने पर शाला प्रमुख को वैकल्पिक शिक्षक रजिस्टर मेंटेन करना अनिवार्य किया गया है। जो शिक्षक वैकल्पिक रूप से स्कूल में पढ़ाने आएंगे उनका इसमें रिकॉर्ड रखा जाएगा।

इनका कहना है
शिक्षक को स्कूल में अवकाश की पहले से सूचना आवेदन पत्र के माध्यम से देना जरूरी है, लेकिन विशेष परिस्थिति में वे अनुपस्थिति की जानकारी एसमएसएस और ईमेल से भी दे सकेंगे। यह मान्य होगा। खास बात यह है कि वे बिना बताए अनुपस्थित नहीं रहेंगे।
केपीएस तोमर, डिप्टी डायरेक्टर, राज्य शिक्षा केंद्र
;

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Popular News This Week