IFS डबास के खिलाफ मामला दर्ज, शेष 2 जांच की जद में - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

IFS डबास के खिलाफ मामला दर्ज, शेष 2 जांच की जद में

Sunday, September 25, 2016

;
भोपाल। मप्र कैडर के 3 आईएफएस अधिकारियों के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले में कार्रवाई शुरू हुई है। आजाद सिंह डबास, अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक (लघु वनोपज संघ) के खिलाफ लोकायुक्त सागर ने मामला दर्ज कर लिया है तो अजीत कुमार श्रीवास्तव एवं मुख्य वन संरक्षक पीके सिंह विभागीय जांच की जद में आ गए हैं। 

अजीत कुमार पर कारोबारी से 55 लाख रिश्वत मांगने का आरोप
1987 बैच के अजीत कुमार श्रीवास्तव पर जबलपुर संभाग के टिंबर कारोबारी अशोक नंदा ने आरोप लगाया था कि उन्होंने 55 लाख रुपए की रिश्वत मांगी। इसकी जांच अपर मुख्य सचिव गृह बीपी सिंह ने की। लोकायुक्त ने भी मामला दर्ज कर जांच की। ऑडियो टेप व बयानों के आधार पर लोकायुक्त ने शासन को लिखा कि घूस लेने के ठोस सबूत नहीं मिले हैं। बीपी सिंह की रिपोर्ट में बातचीत के लहजे को संदेह के दायरे में माना गया। लिहाजा शासन ने वन प्रमुख से अभिमत मांगा है। फिर फाइल कार्रवाई के लिए मुख्यमंत्री को भेजी जाएगी।

आजाद सिंह डबास : 12 लोगों ने की अनियमितता की शिकायत 
1985 बैच के अधिकारी आजाद सिंह डबास जब सागर सीसीएफ पदस्थ थे, तब वहां उन्होंने वाहन किराए पर लिए। सामान खरीदी के बिल लगाए और कर्मचारियों पर कार्रवाई की। सागर वन अमले के इन कर्मचारियों ने सागर लोकायुक्त पुलिस को लिखित शिकायत की, जिसमें आरोप लगाया कि किराए पर लिए गए वाहनों के गलत बिल लगाए गए। जो बिल पेमेंट हुए, उनमें भी गड़बड़ी हुई। कर्मचारियों ने पैसे नहीं दिए तो उनके खिलाफ जानबूझकर कर कार्रवाई की। इसी तरह सीनियर अधिकारियों पर अनावश्यक टिप्पणी को लेकर भी उन्हें नोटिस मिला हुआ है। 

पीके सिंह : प्रारंभिक जांच करने वाले से ही उलझे, शासन ने जारी किया नोटिस 
1988 बैच के अधिकारी पीके सिंह ने मुकुंदपुर सफारी में निर्माण कार्यों में वित्तीय गड़बड़ी की। काम की गुणवत्ता भी खराब मिली। इसकी जांच आईएफएस अधिकारी अरुण कुमार ने की और उन्हें दोषी पाया। शासन ने भी जब कार्यवाही आगे बढ़ाई तो पीके सिंह वन मुख्यालय में पदस्थ अरुण कुमार के दफ्तर पहुंचे और उनसे दुर्व्यवहार किया। इस मामले में शासन ने पीके सिंह को नोटिस जारी किया है। दूसरी ओर मुकुंदपुर मामले में उन्हें पूर्व में चार्जशीट जारी की गई थी, जिसका उन्होंने जवाब दिया, लेकिन शासन ने जवाब को असंतोषजनक माना और उनकी विभागीय जांच के आदेश दे दिए। जांच अधिकारी सीनियर आईएफएस अधिकारी अतुल श्रीवास्तव को बनाया गया है। प्रेजेंटिंग अधिकारी रीवा सीसीएफ होंगे। 
;

No comments:

Popular News This Week