इंडियन आर्मी ज्वाइन करना चाहता था बुरहान वानी: पिता ने बताया

Monday, September 26, 2016

;
नईदिल्ली। 8 जुलाई को एनकाउंटर में मारे गए हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी के पिता ने अपने बेटे की तुलना भगत सिंह से की है। उन्होंने कहा कि जब भगत सिंह मारा गया था तब उन्हें भी आतंकवादी ही कहा जाता था लेकिन भारत के लोग उन्हे स्वतंत्रता संग्राम सेनानी कहते थे। कल जब कश्मीर मसले का हल निकल आएगा तब सारी दुनिया बुरहान को फ्रीडम फाइटर मानेगी। उन्होंने यह भी बताया कि बुरहान भारत से प्यार करता था। भारतीय सेना में शामिल होना चाहता था। भारतीय क्रिकेट टीम के लिए खेलना चाहता था। 

टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में बुरहान के पिता ने बताया कि उनके बेटे ने 5 अक्टूबर 2010 को उसने घर छोड़ दिया था। उसके बाद उनकी और बुरहान की सिर्फ दो-तीन मुलाकातें हुई थीं, वो भी 2-3 मिनट की। मुजफ्फर वानी ने बताया कि, उन्होंने एनकाउंटर से दो महीने पहले बुरहान को मनाने की भरसक कोश‍िश की थी कि वो घर वापस आ जाए, लेकिन वो नहीं माना।

बुरहान भारत के लिए क्रिकेट खेलता, पाकिस्तान के लिए नहीं
अपने बेटे के बारे में मुजफ्फर वानी ने बताया कि उसने उसका जन्म 1944 में हुआ था। उस वक्त घाटी में हालात बहुत खराब थे। इसलिए उसने अपने बचपन में घाटी में सबसे ज्यादा अस्थिरता देखी थी। ऐसे में उसका वह दर्द महसूस करना स्वाभाविक था। उन्होंने बताया कि बुरहान जब 10 साल का था, तब उसने इंडियन आर्मी के एक ऑफिसर से कहा था कि वो भारतीय सेना ज्वॉइन करना चाहता है। उसके एक वीडियो से क्रिकेट के प्रति उसका प्रेम भी दिखता है। वो भारत के लिए खेलना चाहता था, पाकिस्तान के लिए नहीं।

जताया भरोसा- तीसरा बेटा नहीं उठाएगा बंदूक 
मुजफ्फर वानी ने बताया कि अप्रैल 2015 में उनका बड़ा बेटा भी सेना के हाथों मारा गया था। लेकिन यह भरोसा भी जताया कि उनका तीसरा बेटा बंदूक नहीं उठाएगा। उन्होंने बताया कि उनका बड़ा बेटा खालिद तब पिकनिक मनाने गया था, जब उसके सुरक्षाबलों ने मार गिराया। पुलिस का मानना था कि वो बुरहान से मिलने गया था। 
;

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Popular News This Week