युवा कर्मचारियों में नई पेंशन योजना का विरोध तेज - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

युवा कर्मचारियों में नई पेंशन योजना का विरोध तेज

Thursday, September 8, 2016

;
आमला/बैतूल। कर्मचारी वर्ग में नई पेंशन योजना का विरोध तेज होता जा रहा है। रेलवे के युवा कर्मचारियों ने ना केवल इस पर चिंता जताई है बल्कि इसके खिलाफ अभियान की तैयारी भी कर ली है। वो नई पेंशन स्कीम बंद करके, पुरानी पेंशन योजना पर बने रहना चाहते हैं। कर्मचारियों ने इसके लिए गेट मीटिंग रेलवे इंस्टीट्यूट में की। 

बैठक में उपस्थित कर्मचारियों ने अन्य कर्मचारियों से इस अभियान का हिस्सा बनने का आह्वान किया। गेट मीटिंग को संबोधित करते हुए नीरज बारस्कर ने कहा रेलवे में दिसंबर 2003 के बाद लगे कर्मचारियों और उनके परिजन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को अपनी समस्याओं से पोस्टकार्ड के जरिए अवगत कराएगा। उन्होंने कहा राष्ट्रीय पेंशन योजना में बड़े पैमाने पर खामियां हैं। योजना में सेवानिवृत्ति के बाद कर्मचारियों के जमा फंड का ब्याज शेयर बाजार पर निर्भर हो जाएगा। 

इसके अलावा एक्सग्रेसिया, पारिवारिक पेंशन, अनुकंपा के आधार पर नौकरी, उम्र बढ़ने के कारण मिलने वाला 5 प्रतिशत से लेकर 100 प्रतिशत तक का बुढ़ापा भत्ता, सेवा मुक्ति के बाद पक्की पेंशन, महंगाई भत्ता, डीए आदि जो लगातार बढ़ता है। कर्मचारियों को नहीं मिलेगा।जबकि 2004 के पूर्व के भर्ती कर्मचारियों को ये सारी सुविधाएं मिल रही हैं। 

पंकज रसीले ने कहा ऐसे दोहरे मापदंड सरकार को नहीं अपनाने चाहिए। राष्ट्रीय पेंशन योजना लागू करने का सुझाव मोंटक सिंह अहलूवालिया ने शेयर बाजार को स्थिर रखने के लिए दिया था। इस कारण 2009 के बाद भारत का शेयर बाजार तो स्थिर है, इससे भारत की स्थिति विश्व में भी मजबूत हुई। जबकि विश्व के कई देश आर्थिक मंदी से जूझ रहे हैं। दूसरी ओर कर्मचारी वर्ग को इन कारणों से मुसीबत में डाल दिया है। 

नितिन सोनेला ने कहा जब कर्मचारी सेवानिवृत्त होगा तो उसे सम्मानजनक पेंशन मिलने पर संदेह रहेगा। आज सेवानिवृत्त होने वाले कर्मचारी को मिलने वाली राशि का 60 प्रतिशत नकद मिलता है। वहीं 2003 के कर्मचारी को कितनी पेंशन मिलेगी, यह शेयर मार्केट पर निर्भर करेगा। 

विरोध में एनपीएस का गठन 
गेट मीटिंग को संबोधित करते हुए अरविंद मगरदे ने बताया पेंशन नीति के विरोध में करीब 5 लाख कर्मचारियों को जागरूक करने का लक्ष्य रखा है। इसके तहत पोस्ट कार्ड अभियान शुरू किया जा रहा है। इसी उद्देश्य से आल इंडिया नेशनल पेंशन स्कीम यूनिटी का गठन किया है। इसके तहत कर्मचारियों के परिजन भी पीएम और सीएम को पोस्टकार्ड लिखेंगे। 
;

No comments:

Popular News This Week