पाक: मोदी के बयानों के अर्थ

Tuesday, September 27, 2016

राकेश दुबे@प्रतिदिन। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने उरी हमले के बाद इस विषय पर दो सार्वजनिक भाषण दिये। एक उन्होंने भाजपा की बैठक में दिया और दूसरा उप राष्ट्रपति की पुस्तक के विमोचन के दौरान। प्रधानमंत्री के इन भाषण को कैसे देखें? क्या वाकई इसमें करुणा की कमी थी? क्या यह ऐसा भाषण नहीं था, जिससे देश को यकीन हो कि पाकिस्तान को करार जवाब मिलेगा या मिल रहा है? या ऐसे तत्व थे भाषण में? क्या इसमें दुनिया को समझा सकने लायक तर्क थे या नहीं, जिससे कि पाकिस्तान को अलग-थलग करने में सहायता मिले? ऐसे अनेक प्रश्न हैं, जिनका उत्तर हमें उनके भाषण में तलाशना होगा। प्रधानमंत्री ने यह स्वीकार किया कि देश में उरी हमले के बाद आक्रोश है,तो एक नजरिया यह हो सकता है कि जिस उच्चतम स्तर का आक्रोश देश में है या एक साथ क्षोभ और दुख का जो चरम माहौल है। प्रधानमंत्री का भाषण उस स्तर को अभिव्यक्त करने वाला नहीं था. लेकिन जरा इसे दूसरे नजरिए से देखिए तो तस्वीर कुछ और भी दिखाई देगी।

मसलन, उन्होंने साफ कहा कि उरी में हमारे पड़ोसी देश के कारण 18 जवानों को बलिदान होना पड़ा और आतंकवादियों को चेतावनी दी कि आतंकवादी कान खोलकर सुन लें कि यह देश आपको कभी भूलने वाला नहीं है। जब बराक ओबामा शासन में आए थे, उन्होंने कहा था कि आतंकवादियों जहां कहीं आप हो हम आपको ढूंढ़ेंगे और खत्म कर देंगे। मोदी ने ऐसा नहीं कहा, लेकिन भाव यही था। दूसरे, उन्होंने यह कहा कि पड़ोस के देश के हुक्मरान कहा करते थे कि हम हजार साल लड़ेंगे। काल के भीतर कहां खो गए कहीं नजर नहीं आते।

तो मोदी के ऐसा कहने के पीछे कुछ संदेश तो था ही। संदेश यह था कि पाकिस्तान अपने उस नेता को याद करे, जो हजार साल लड़ने का सपना देखा और एक ही युद्ध में अपनी मिट्टी पलीद करा बैठा। उसकी पुनरावृत्ति फिर हो सकती है। इसलिए यह कहना कि उन्होंने युद्ध की बिल्कुल बात नहीं की सही नहीं है, हां, प्रत्यक्षत: नहीं की। मगर परोक्ष तौर पर तो की। उन्होंने यह भी कह दिया कि आज के नेता तो अपना भाषण भी स्वतंत्र होकर नहीं देते। वे आतंकवादियों के आकाओं के लिखे हुए भाषण पढ़कर कश्मीर के गीत गाते हैं। इसके दो अर्थ हैं, एक पाकिस्तान के नेताओं की आतंकवादियों के साथ खुली मिलीभगत है। दूसरे, कश्मीर के आतंकवादियों का एजेंडा ही नेता आगे बढ़ा रहे हैं। यानी कश्मीर में सत्ता का लालच और आतंकवाद में कोई अंतर नहीं है। इस तरह प्रधानमंत्री ने पाकिस्तान के अंदर भी वहां के सत्ताधीशों के खिलाफ विरोध का भाव पैदा करने की रणनीति अपनाई। यह तत्काल सफल हो जाएगी ऐसा नहीं है, किंतु शुरुआत तो हुई। इसे लगातार विभिन्न मंचों से बोला जाएगा। अब नए सिरे से समर्थन देकर प्रधानमंत्री ने पाकिस्तान को जैसे का जैसा जवाब देने की कोशिश की है। यह दूरगामी नीति का अंग है, लेकिन पाकिस्तानी सत्ता प्रतिष्ठान के खिलाफ बाहर के साथ घर के अंदर भी वातावरण बनाने की यह कोशिश जारी रहेगी तो इसका असर पड़ेगा।
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।        
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week