मप्र: सागर में एंबुलेंस में चारा ढोया जाता है

Tuesday, September 27, 2016

सागर। लोग एंबुलेंस के इंतजार में तड़प तड़पकर मर जाते हैं और सागर में एंबुलेंस का उपयोग चारा ढोने के लिए किया जा रहा है। सागर के जिला सरकारी अस्पताल की MP-15 T 2875 नंबर की ये एंबुलेंस है। इसमें नीली बत्ती भी लगी है। इस एंबुलेंस से अस्पताल के कर्मचारी पशुओं का चारा ढो रहे हैं। 

आरोप है कि जब मरीज अस्पताल में एंबुलेंस की मांग करते हैं तो अस्पताल प्रशासन कहता है कि एंबुलेंस उपलब्ध नहीं है। अब एंबुलेंस का कहां रहता है? उससे क्या काम किया जाता है? ये मीडिया के कैमरों में कैद हो गया। कई मरीजों का ये भी आरोप है कि अस्पताल के लोग एंबुलेंस देने में आना कानी करते हैं।

वहीं इस घटना के सामने आने के बाद चिकित्सा विभाग में हड़कंप मच गया है। अस्पताल प्रशासन दोषी कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की बात कह रहा है, लेकिन सवाल यह है कि दोषी किसे माना जाए। वो कर्मचारी जो चारा ढो रहा था या वो अधिकारी जिसने एंबुलेंस को चारा ढोने के लिए खुला छोड़ दिया। निगरानी नहीं की। लॉगबुक की जांच नहीं की। कहीं यह चारा सीएमएचओ या सिविल सर्जन के पालतू जानवरों के लिए तो नहीं था। 

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Popular News This Week