विज्ञापन विवाद में आलोचकों को मुकेश अंबानी का जवाब - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

विज्ञापन विवाद में आलोचकों को मुकेश अंबानी का जवाब

Thursday, September 8, 2016

;
नई दिल्ली। रिलायंस जियो के विज्ञापन में पीएम मोदी की फोटो छापने के विवाद को मुकेश अंबानी ने खारिज कर दिया हैं। आलोचकों को जवाब देते हुए उन्होंने साफ कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मेरे भी तो पीएम हैं। जियो के लांच के बाद रिलायंस के विज्ञापन में पीएम मोदी की तस्वीर होने से बीजेपी की विरोधी पार्टियों ने जोरदार विरोध किया था।

लेकिन, इस पर मुकेश अंबानी खुल कर सामने आए हैं। विरोधियों का मुंह बंद करते हुए उन्होंने साफ किया कि वो पीएम के डिजिटल इंडिया विजन से प्रेरित हुए हैं। इसमें कोई राजनीति नहीं हैं। उन्होंने कहा कि विज्ञापन प्रकाशित करने का फैसला पूरी तरह से सही था। उनका लक्ष्य है कि वे देश में डिजिटल इंडिया को मजबूत बनाएं।

गौरतलब है कि विज्ञापन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर दिखने के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री का मजाक उड़ाते हुए उन्हें 'मिस्टर रिलायंस' नाम दे डाला। केजरीवाल ने प्रधानमंत्री पर रिलायंस की नई जियो सर्विस 'खुलेआम प्रचार' करने का आरोप लगाया था।

केजरीवाल ने ट्वीट किया था कि, मोदीजी रिलायंस के विज्ञापनों के लिए मॉडलिंग जारी रखिए। पूरे देश के मजदूर 2019 में आपको सबक सिखाएंगे। इसके साथ ही कांग्रेस ने कहा कि इस दूरसंचार कंपनी ने अपनी सेवा की शुरूआत करते हुए पूरे पृष्ठ का विज्ञापन देने में पीएमओ की अनुमति के बगैर उनके फोटो का इस्तेमाल किया है तो प्रधानमंत्री मोदी को रिलायंस जियो के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए.

विज्ञापन में प्रधानमंत्री के फोटो का इस्तेमाल करने के नियम होते हैं
कांग्रेस के वरिष्ठ प्रवक्ता अजय माकन ने यहां संवाददाताओं से कहा, किसी विज्ञापन में प्रधानमंत्री के फोटो का इस्तेमाल करने के नियम होते हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री के तौर पर मुझे मालूम है कि पहले अनुमति लेनी होती हैं। उन्होंने कहा, क्या रिलायंस ने प्रधानमंत्री या पीएमओ से अनुमति ली थी।

यदि इसमें पीएमओ की अनुमति नहीं ली गई है तो…
अजय माकन के खतरा जताया कि यदि इसमें पीएमओ की अनुमति नहीं ली गई है तो प्रधानमंत्री का फोटो कैडबरी या अन्य चॉकलेट के विज्ञापन पर भी छपने लगेगा। इस तरह की अनुमति गहन विचार-विमर्श के बाद दी जाती है क्योंकि प्रधानमंत्री न केवल एक व्यक्ति हैं बल्कि एक संस्था भी हैं।
;

No comments:

Popular News This Week