गली गली बसों का चालान काट रहे गृहमंत्री के पास 3 साल की रेप पीड़िता के लिए सिर्फ 2 मिनट

Saturday, September 3, 2016

भोपाल। मप्र की राजधानी भोपाल को शर्मसार कर देने वाली करतूत सामने आने के बावजूद शिवराज सरकार सिर्फ औपचारिकताओं तक ही सीमित है। अस्पताल में भर्ती पीड़िता को देखने के लिए मप्र के गृहमंत्री 500 पुलिस कर्मचारियों की फौज लेकर पहुंचे, 2 मिनट रुके और चले गए। वहां मौजूद लोग समझ ही नहीं पाए कि ऐसे ही जाना था तो आए ही क्यों। बता दें कि मप्र पुलिस अभी तक आरोपी का सुराग नहीं लगा पाई है। पीड़िता की हालत नाजुक है। 

अस्पताल में दर्द से 3 घंटे तक तड़पती रही 
बच्ची गुरुवार की रात दर्द से 3 घंटे तड़पती रही तब कहीं जाकर उसे इंजेक्शन दिया गया। बेहतर इलाज के नाम पर उसे आईसीयू की जगह प्राइवेट रूम दे दिया गया। जहां नर्स भी बुलाने पर ही आती है। ज्यादा दर्द की वजह से उसे कमला नेहरू अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया।

पैसे से कम नहीं होगा दर्द
पीड़िता की मां ने बताया कि देखने आने वाले अफसर बता रहे हैं कि उसके खाते में चार लाख रुपए आ गए हैं। रुपया पैसा से बेटी का दर्द कम होगा क्या। चार दिन और अस्पताल में रखेंगे, फिर जाना तो वहीं है। 

पीड़िता के 7 वर्षीय भाई से पूछताछ कर रही है पुलिस
कहने को तो पूरा का पूरा पुलिस फोर्स आरोपी की तलाश में जुटा है परंतु असलियत यह है कि पुलिस पीड़िता के 7 वर्षीय भाई को घेरकर बैठ गई है। पूछताछ के नाम पर तरह तरह के सवाल किए जा रहे हैं। पीड़िता के पिता ने बताया कि वह तो उठकर टेंट में खेलने चला गया था, उसे भी पता नहीं कि कौन बहन को उठा कर ले गया।

गार्ड पीड़िता के परिजनों को धमका रहा है 
बच्ची को प्राइवेट रूम शिफ्ट करने के बाद अस्पताल प्रबंधन ने किसी को भी बच्ची के कमरे के पास फटकने न देने की हिदायत दी है। इसके बाद सुरक्षा कर्मी आबिदा वार्ड में भर्ती महिलाओं के परिजनों के गाली-गलौच कर रही है। अभद्र व्यवहार करके उन्हें भगा रहे हैं।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


Popular News This Week

खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं