GST: पैसे वालों को फायदा पहुंचाएगा, मिडिल क्लास को नुक्सान

Monday, August 8, 2016

;
नईदिल्ली। हाल ही में पास हुआ जीएसटी बिल अगले वित्तवर्ष से प्रभावी हो जाएगा। इसी के साथ देश में लक्झरी लाइफ जीने वाले तमाम धनवानों की उपयोग का लगभग हर सामान सस्ता हो जाएगा परंतु मिडिल क्लास की जरूरी सेवाएं महंगी हो जांएगी। लग्जरी कारें, एफएमसीजी उत्पाद, टिकाउ उपभोक्ता उत्पाद, इलेक्ट्रॉनिक तथा रेडीमेड कपडे अगले साल वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लागू होने पर सस्ते होंगे, लेकिन मोबाइल फोन, बैंकिंग तथा बीमा सेवाएं, टेलीफोन बिल और हवाई यात्राएं उच्च कर के कारण महंगी हो जाएंगी। जीएसटी के एक अप्रैल, 2017 से लागू होने की संभावना है। 

सरकार को उम्मीद है कि वस्तु एवं सेवा कर के लाभ आम आदमी तक पहुंचेंगे लेकिन उसका कहना है कि यह बताना अभी संभव नहीं है कि क्या महंगा होगा और क्या सस्ता। राजस्व सचिव हसमुख अधिया ने कहा की कुल मिला कर जीएसटी से आम आदमी पर करों का बोक्ष कम होगा। पर जब तक कर की दरों का ढांच तय नहीं हो जाता तब तक यह नहीं कहा जा सकता कि किस सामान पर राहत मिलेगी।

वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) को भारत में अब तक के सबसे शक्तिशाली कर सुधार के तौर पर देखा जा रहा है और इसके जरिए विभिन्न किस्म के वस्तु एवं सेवा कर प्रणाली खत्म हो जाएगी और ये सभी एक ही दर पर उपलब्ध होंगे। सरकार एक अप्रैल 2017 से जीएसटी लागू करने की योजना बना रही है जो उत्पादन आधारित मौजूदा कराधान प्रणाली को उपभोक्ता आधारित कराधान में तब्दील करेगा।

कर विशेषज्ञों ने कहा कि जीएसटी लागू होने से मौजूदा प्रणाली की वह कमी खत्म हो जाएगी जिसमें कर पर कर लगने से करों का प्रभाव बढने की समस्या खत्म हो जाएगी। इससे विभिन्न किस्म के उत्पादों की कीमत कम करने में मदद मिलेगी जिनमें एफएमसीजी से लकर टिकाउ उपभोक्ता और इलेक्ट्रानिक से लेकर रेडीमेड कपड़े तक शामिल होंगे। दूसरी ओर कुछ ऐसी वस्तुएं होगी जिन पर फिलहाल कम शुल्क लगता है, मसलन छोटी कारें जिन पर सिर्फ आठ प्रतिशत उत्पाद शुल्क लगता है। इन पर जीएसटी का असर लगभग विपरीत हो सकता है। लेकिन एसयूवी और बड़ी कारेां जिनमें पर 27-30 प्रतिशत उत्पाद शुल्क लगता है, इनकी कीमत में गिरावट हो सकती है।

कर विशेषज्ञों ने कहा कि एंबुलेंस सेवा जैसी आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सांस्कतिक गतिविधियां, कुछ तीर्थयात्राएं और खेल संबंधी समारोह जिन्हें शुल्क में छूट है, वे मंहगी हो जाएंगी क्योंकि इन पर शुल्क बढ़कर 18-22 प्रतिशत हो जाएगा जो फिलहाल 14.5 प्रतिशत है। इस तरह बाहर खाना, यात्रा करना, टेलीफोन बिल, बैंकिंग एवं बीमा सेवाएं, टैक्सी सेवा, ब्राडबैंड, थियेटर में फिल्म देखना, ब्रांडेड जेवरात और आईपीएल जैसे लोकप्रिय खेल समारोह मंहगे हो जाएंगे।

जीएसटी प्रणाली में विनिर्मित उपभोक्ता उत्पाद सस्ते होंगे क्यों कि उससे उत्पाद शुल्क और वैट का आघात कम होगा जो इस समय 25-26 प्रतिशत बनता है लेकिन सेवाओं पर कर बढेगा जो अभी 15 प्रतिशत है। विशेषज्ञों का कहना है कि अभी ऐसा कोई संकेत नहीं है कि जीएसटी की दर क्या रखी जाएगी पर पूरी संभावना है कि यह 18-22 प्रतिशत के बीच होगी। इससे विनिर्मित वस्तुएं सस्ती होंगी। कच्चे खाद्य उत्पाद जैसी कुछ आवश्यक वस्तुओं पर फिलहाल कर नहीं लगता है। उम्मीद है कि ये जीएसटी में भी बाहर रखी जाएंगी।

जीएसटी प्रणाली लागू होने पर जिन उत्पादों की कीमत घटेगी उनमें लग्जरी वाहन, प्रसंस्कत खाद्य उत्पाद, एफएमसीजी और फार्मा उत्पाद शामिल हैं। प्रसंस्कत खाद्य उत्पादों पर कर लगना जारी रहेगा लेकिन जीएसटी लागू होने पर इन उत्पादों पर मौजूदा संयुक्त कर कम होगा।
;

No comments:

Popular News This Week