सड़क नहीं है, लबालब तालाब के बीच से निकलती है शवयात्रा - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

सड़क नहीं है, लबालब तालाब के बीच से निकलती है शवयात्रा

Thursday, August 25, 2016

;
संजय साहू/जबलपुर। आजादी के 70 साल बाद भी ग्रामीण क्षेत्रों में दबंगों और मालगुजारों का आतंक कितना है इसकी बानगी पनागर जनपद पंचायत के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत बम्हनौदा के विहर गांव में देखने मिली जहां पर श्मशान  भूमि जाने के लिये ग्रामीणों को भरे तलाब में से होकर गुजरना पड़ता है। सबसे आश्चर्य की बात यह है कि यहां पर निर्वाचित सरपंच द्वारा सड़क बनाने का प्रयास किया गया था किन्तु प्रशासन की लापरवाही से शासकीय भूमि को भी निजी तालाब में शामिल कर दिया।

जानकारी के मुताबिक पनागर जनपद पंचायत की ग्राम पंचायत बम्हनौदा के विहर ग्राम में गुरूवार को उस समय समस्त ग्राम उमड़ पड़ा जब ग्राम की एक महिला शांति बाई का 70 वर्ष की आयु में निधन हो गया। इस गांव में श्मशान घाट शासकीय भूमि में बना है, और वहां जाने के लिये 15 फुट की शासकीय सड़क भी है किन्तु इस सड़क पर किनारे बने निजी तालाब स्वामी ने कब्जा जमा लिया है। तालाब चूंकि उनका पुस्तैनी है तथा परिवार भी संभ्रांत माना जाता है इसलिये गांव के किसी भी व्यक्ति की हिम्मत नहीं होती कि उनसे कुछ कह सके लेकिन उसी सड़क के बगल में एक ग्राम कोटवार को पट्टा देने के बाद तथा उसका मकान बनने के बाद से स्थिति भयावह हो गई है। 

गांव में अगर किसी की मृत्यु हो जाती है तो पानी से लबालब तालाब में से अर्थी को ले जाना पड़ता है। ये इतनी दुखद घटना होती है कि गांव के लोगों की आंखों से स्वत: आंसू आ जाते हैं।

नायब तहसीलदार और पटवारी का खेल
बताया जाता है कि पिछले दिनों ग्राम पंचायत सरपंच द्वारा यहां पर सड़क बनाने का प्रस्ताव दिया गया था जिसकी सीसी भी जारी हो गई थी, लेकिन जैसे ही तालाब का कुछ हिस्से की पर मिट्टी डालने का प्रयास किया तालाब मालिक द्वारा डम्पर चालकों को यह कह कर वापिस भेज दिया कि यह हमारी जमीन है। इस बात की शिकायत नायाब तहसीलदार से की गई जिस पर पहले तो उन्होंने ग्राम पंचायत को कार्य करने का आदेश जारी कर दिया उसके बाद दूसरे दिन उन्होंने तालाब मालिक को स्टे आर्डर दे दिया। ग्राम वासियों का कहना है कि प्रशासन स्वयं नहीं चाहता कि इस मामले का पटाक्षेप हो ताकि हमें श्मशान भूमि तक जाने का रास्ता मिल सके।

इनका कहना है
मुझे आपके द्वारा गांव की जानकारी मिली है, यह स्थिति बड़ी ही दुखद है इस पर तीन दिवस के भीतर ही गांव वालों को श्मशान भूमि जाने के लिये सड़क प्रदान की जायेगी तथा प्रशासनिक अमला वहां पर जाकर मुआयना करेगा।
सुशील तिवारी इंदु, विधायक पनागर

आपके माध्यम से हमारी जानकारी आया है, हमने वहां पर तहसीलदार पनागर को भेजा था जॉच करने के लिये, तथा पूरे अमले ने जाकर जॉच की है, इस बार पानी ज्यादा गिरने के कारण यह स्थिति बनी है। जल्द ही सड़क का कार्य प्रारंभ करवाया जायेगा।
महेशचंद्र चौधरी, कलेक्टर जबलपुर 
;

No comments:

Popular News This Week