सरकार की लापरवाही और मेडिकल माफिया ने उसे हत्यारा बना दिया - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

सरकार की लापरवाही और मेडिकल माफिया ने उसे हत्यारा बना दिया

Saturday, August 20, 2016

;
इंदौर। वो मात्र 150 रुपए प्रतिदिन कमाता था। घर में पत्नी के अलावा 4 बच्चे भी थे। इनमें से एक बच्चा बीमार था। सरकारी अस्पताल में मुफ्त इलाज नहीं मिल रहा था और प्राइवेट अस्पतालों में मोटी रकम की मांग की जा रही थी। इलाज की रकम जुटाने के लिए उसने कांग्रेस नेता एवं पूर्व विधायक भल्लू यादव की भाभी के यहां चोरी करने की योजना बनाई। उसे उम्मीद नहीं थी, लेकिन वारदात के दौरान भाभी जाग गई और खुद को बचाने के लिए आरोपी को उसकी हत्या करनी पड़ी। कुल मिलाकर वो आदतन अपराधी नहीं है, बल्कि मप्र शासन के सरकारी अस्पतालों की ढर्रे और मेडिकल माफिया के महंगे इलाज ने उसे पहले चोर और फिर हत्यारा बना दिया। पुलिस ने उसे तो गिरफ्तार कर लिया है परंतु क्या उन कारणों को भी खत्म किया जाएगा जो एक व्यक्ति को मजदूर से हत्यारा बना रहे हैं। 

यह घटनाक्रम हत्या के आरोपी नौकर मोहन पिता नगीना ने बाणगंगा पुलिस के सामने कबूला है। 17 अगस्त को बाणगंगा में रहने वाले कांग्रेसी नेता और पूर्व विधायक भल्लू यादव की भाभी सावित्री की कमरे में खून सनी लाश मिली थी। पीएम रिपोर्ट से खुलासा हुआ कि सिर में रॉडनुमा ठोस वस्तु और धारदार हथियार से वार किया गया था। पुलिस दो दिन से लगातार नए व पुराने नौकरों से पूछताछ कर रही थी। 

नौकर मोहन की संदिग्ध गतिविधि देख पुलिस ने सख्ती बरती तो उसने वारदात कबूल ली। भल्लू यादव के घर के सामने फुफेरे भाई निब्बू यादव का घर है। वह यहीं पर 16 सालों से बेलगाड़ी चलाकर जीवन यापन कर रहा था। यहीं एक कमरे में पत्नी व चार बच्चों के साथ रहता था। उसे प्रतिदिन 150 रुपए मिलते थे।

उसे पता था कि भाभी को दमे की शिकायत है और वह हवा के लिए दरवाजा खोलकर सोती है। रात करीब साढ़े 3 बजे वह गार्डन में काम आने वाली लोहे की रॉड और उस्तरा लेकर पेड़ पर चढ़ा और पहली मंजिल पर भाभी के कमरे में पहुंचा। भाभी जाग गई और उसे देख लिया। भाभी शोर मचाती इससे वह रॉड व उस्तरे से वार कर भाग गया।

बच्चे का इलाज तो करा दो सरकार
पुलिस ने काबिल ए तारीफ कार्रवाई करके हत्यारे को पकड़ लिया। आरोपी ने अपराध किया है और उसे सजा भी मिलेगी, लेकिन वो बच्चा अभी भी बीमार है जिसका इलाज मप्र शासन के अस्पताल में नहीं किया जा रहा है। अब उसका प्राइवेट अस्पताल में भी इलाज नहीं हो पाएगा। तो क्या वो ऐसे ही तड़प तड़पकर मर जाएगा, क्योंकि उसने एक गरीब पिता के घर जन्म लिया था। 
;

No comments:

Popular News This Week