डाकू भरोसी मल्लाह का श्योपुर में एनकाउंटर

Sunday, August 21, 2016

ग्वालियर। मुरैना से शिवपुरी तक के जंगली पट्टे पर 35 साल से आतंक बरपा रहे डाकू भरोसी मल्लाह को श्योपुर पुलिस ने मार गिराया है। मल्लाह पर 35 हजार रुपए का इनाम घोषित था। मल्लाह ना केवल हत्या, डकैती और अपहरण करता था बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों की राजनीति में भी दखल दिया करता था। मुरैना, श्योपुर, शिवपुरी समेत राजस्थान के सीमावर्ती इलाकों में भी उसका खौफ जमा हुआ था। 

जानकारी के अनुसार, एसपी एसके पांडे को कुख्यात डकैत भरोसी मल्लाह के श्योपुर के जंगलों में मूवमेंट के बारे में जानकारी मिल रही थी लेकिन, वह लगातार अपनी लोकेशन बदल रहा था। शनिवार रात को भरोसी के बीरपुर थाना क्षेत्र के नंदीगांव में होने की पुख्ता सूचना मिली थी। इस आधार पर एसपी ने बीरपुर और कोतवाली थाना प्रभारी के नेतृत्व में एक विशेष टीम का गठन किया, जिसने रात में ही चंबल के बीहड़ में सर्चिंग अभियान शुरू कर दिया।

तड़के करीब चार बजे पुलिस का डकैतों के दल से आमना-सामना हो गया। दोनों तरफ से हुई फायरिंग में पुलिस ने भरोसी मल्लाह को मार गिराया, जबकि उसके साथी मौके से फरार हो गए। पुलिस को भरोसी के शव के पास से दो बंदूक और जिंदा कारतूस मिले हैं। भरोसी पर मध्य प्रदेश पुलिस ने 30 हजार और राजस्थान पुलिस ने पांच हजार रुपए का इनाम रखा था। चंबल में दहशत का पर्याय बनते जा रहे भरोसी पर ग्वालियर और चंबल रेंज में डकैती, लूट और अपहरण जैसे कई मामले दर्ज थे। डकैत भरोसी पुत्र पातीराम निवासी कलरघाटी सबलगढ़ ने 1980 में मवेशी चोरी से अपराध की शुरूआत सबलगढ़ थाने से हुई थी। अपराध क्रमांक 15/80 धारा 380 का दर्ज हुआ था। इस पर दो हत्या, 3 अपहरण सहित लूट, डकैती और बलवा के कई मामले दर्ज हैं, इसके साथ 5 लोगों बकीला तथा तीन अन्य लोग मिलाकर गिरोह संख्या है।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Trending

Popular News This Week