मोदीजी का ये बयान तो दलित विरोधी हो गया - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

मोदीजी का ये बयान तो दलित विरोधी हो गया

Thursday, August 25, 2016

;
नईदिल्ली। 2 साल पहले तक भाजपा के लोग बातों का बतंगड़ बनाया करते थे, आज कल भाजपा नेताओं की बातें ही बतंगड़ बन जातीं हैं। कोर ग्रुप की मीटिंग में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भाजपा की चिंता करते हुए कहा “राष्ट्रवादी तो हमारे साथ हैं, हमें दलित और पिछड़ों को साथ लाना है।” बस इसी लाइन से हल्ला शुरू हो गया। अब तमाम मोदी विरोधी और दलित हितैषी नेता नरेन्द्र दामोदर भाई से पूछ रहे हैं कि क्या उनकी नजरों में दलित और पिछड़े राष्ट्रवादी नहीं हैं। 

बंद दरवाजे में हुई कोर ग्रुप की बैठक के दौरान मोदी के भाषण की 2 प्रमुख लाइनें चर्चा में हैं, पहले यह पढ़िए: 
  1. राष्ट्रवादी तो हमारे साथ हैं, हमें दलित और पिछड़ों को साथ लाना है।
  2. कई दलित और आदिवासी नेताओं के होने के बावजूद दलित और आदिवासी बीजेपी को अपनी पार्टी क्यों नहीं मानते?


बस यही 2 लाइनें भाजपा की दलित एक्सप्रेस की चेनपुलिंग कर गईं। सोशल मीडिया पर तो तानों और सवालों की बाढ़ आ गई है। कांग्रेस के वाइस प्रेसिडेंट ने भी मौका भुना लिया है। राहुल गांधी ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा। राहुल गांधी ने आश्‍चर्य जताया कि क्‍या प्रधानमंत्री दलितों और पिछड़ों को राष्‍ट्रवादी नहीं मानते। राहुल गांधी ने द इंडियन एक्‍सप्रेस की खबर का लिंक शेयर करते हुए ट्वीट किया, ”मोदीजी, तो अब दलित और पिछड़े राष्‍ट्रवादी नहीं हैं?” 

भाजपा को दलितों की चिंता क्यों 
भाजपा अगले साल पांच राज्‍यों में होने वाले चुनावों, जिनमें उत्‍तर प्रदेश और पंजाब भी शामिल है, के लिए दलितों को लुभाने की कोशिश कर रही है। इन 2 राज्यों में बिना दलित समर्थन के सरकार बनाना असंभव है लेकिन पिछले दिनों दलितों को लुभाने की कोशिश में सामान्य वर्ग नाराज हो गया। मोदी चाहते हैं कि 'राष्ट्रवादी' वोटबैंक को डेमेज किए बिना दलित वोट पर अतिक्रमण किया जाए। बताते चलें कि भाजपा की इमेज ब्राह्मण बनियों वाली पार्टी के रूप में जानी जाती है। हालांकि भाजपा में दलित और आदिवासी नेताओं की कमी नहीं है, लेकिन अपने ही समाज में उनकी पकड़ बहुत कमजोर है। 

सबसे बड़ा सवाल
इस मामले में मोदी समर्थक भी काउंटर करेंगे। डेमेज कंट्रोल की कोशिश भी की जाएगी लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि जब मीटिंग बंद दरवाजे में थी ओर पदाधिकारी कोरग्रुप के थे तो मोदी का भाषण लीक कैसे हो गया। मोदी की सत्ता में विभीषण कौन है। 
;

No comments:

Popular News This Week