मप्र के संविदा कर्मचारियों को भी नियमित किया जाएगा: जीएडी मिनिस्टर - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

मप्र के संविदा कर्मचारियों को भी नियमित किया जाएगा: जीएडी मिनिस्टर

Thursday, August 25, 2016

;
भोपाल। मप्र के ढाई लाख संविदा कर्मचारियों के नियमित होने की आस जगी है। जीएडी मिनिस्टर लाल सिंह आर्य ने ज्ञापन सौंपने आए मप्र सकाम के प्रतिनिधि मंडल को आश्वासन दिया है कि दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों को नियमित कर दिए जाने के बाद संविदा कर्मचारियों के नियमितीकरण की प्रक्रिया भी शुरू कर दी जाएगी। बता दें कि इन दिनों मप्र सकाम नियमितीकरण के लिए आंदोलन कर रहा है। 

आंदोलन के दूसरे चरण में संविदा कर्मचारियों का एक प्रतिनिधि मण्डल महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष रमेश राठौर के नेतृत्व में मप्र शासन के सामान्य प्रशासन विभाग (जीएडी) के मंत्री लाल सिंह आर्य से मिला तथा मंत्री लाल सिंह आर्य को अवगत कराया कि सरकार के द्वारा दैनिक वेतन भोगियों को नियमित करने की जो घोषणा की गई है उसका हम स्वागत करते हैं लेकिन प्रदेश के ढाई लाख संविदा कर्मचारियों इस बात को लेकर आक्रोश है कि बैकडोर से बिना आरक्षण रोस्टर का पालन करते हुये जिन कर्मचारियों की नियुक्ति की गई है सरकार उनको लगातार नियमित करती जा रही है। जैसे पंचायत कर्मी, गुरूजी, शिक्षाकर्मी, मंत्री पदस्थापना में लगे हुये कर्मचारी लेकिन विधिवत् चयन प्रक्रिया के माध्यम् से आरक्षण रोस्टर का पालन करते हुये विभागों, एम.पी. आनलाईन. व्यापम के माध्यम से ली गई परीक्षा में मैरिट के आधार पर चयनित होकर आए हुये योग्यताधारी संविदा कर्मचारियों को सरकार नियमित नहीं कर रही है। जबकि संविदा नियमित होने का हक संविदा कर्मचारियों का सबसे पहले है। 

प्रतिनिधि मण्डल की बात सुनकर प्रदेश के सामान्य प्रशासन विभाग (जीएडी) मंत्री लाल सिंह आर्य ने प्रतिनिधि मण्डल को आश्वस्त किया कि अभी हम दैनिक वेतन भोगियों का नियमितीकरण करने जा रहे हैं। उसके बाद हम संविदा कर्मचारियों को नियमित करने की कार्यवाही प्रारंभ करेंगें। हम इस बात से सहमत हैं कि संविदा कर्मचारियों का नियमितीकरण होना चाहिए। प्रतिनिधि मण्डल में मप्र संविदा कर्मचारी अधिकारी महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष रमेश राठौर, जिला संयोजक राजीव पाण्डे, अवध कुमार गर्ग, अमित कुल्हार, अनिल सिंह, विजय जैन, अनूप शांडिल्य आदि संविदा कर्मचारी गण थे। 
;

2 comments:

Om Shanti said...

अच्छी पहल है विचारों को 10-15 साल हो गये गधे की तरह कार्य करते हैं फिर भी कोई सुनने वाला नहीं है

Vichitra Upadhyay said...

Is bar bhi nahi kiya to bjp ki halath congress se bhi buri hogi.

Popular News This Week