बलूच नेता को मोदी से इंदिरा गांधी जैसी कार्रवाई की उम्मीद

Tuesday, August 23, 2016

;
नईदिल्ली। बलूच नेता ब्रहमदग बुगती ने अपील की है कि जिस तरह भारत ने पूर्वी पाकिस्तान को आजाद कराकर बांग्लादेश बनाया था, उसी प्रकार बलूचिस्तान को आजाद कराने में मदद करे। उन्होंने कहा कि हम उम्‍मीद करते हैं कि भारत एक जिम्‍मेदार पड़ोसी की भूमिका निभाते हुए बलूचिस्‍तान में दखल दें और नरसंहार रुकवाए। पूर्वी पाकिस्‍तान में भारत की भूमिका को हम आदर से देखते हैं। बता दें कि ब्रहमदग बुगती बलूचिस्तान के राष्ट्रवादी नेता अकबर बुगती के पोते हैं। जिन्हे परवेज मुशर्रफ ने मरवा दिया था। 

ब्रहमदग बुगती पाकिस्‍तान से भागकर स्विट्जरलैंड में रह रहे हैं। उन्‍होंने 2008 में बलूच रिपब्लिकन पार्टी का गठन किया था। उनके दादा अकबर बुगती की परवेज मुशर्रफ के कार्यकाल के दौरान हत्‍या कर दी गई थी। बलूचिस्‍तान में पाकिस्‍तान के अत्‍याचारों के बारे में उन्‍होंने कहा कि अंग्रेजों से जबरदस्‍ती बलूचिस्‍तान को लेने के बाद से पाक जुलम कर रहा है। पाकिस्‍तान ने बलूच जमीन को लूटा है। उन्‍होंने कहा कि बलूच ही ऐसे लोग हैं जिनसे भारत को प्राकृतिक संबंध हैं। दोनों धर्मनिरपेक्ष और सहिष्‍णु हैं।

क्या हुआ था पूर्वी पाकिस्तान में 
उस समय भारत की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी थीं। पूर्वी पाकिस्तान में पाकिस्तानी सेना की बर्बरता के चलते 3 दिसंबर, 1971 को भारतीय सेना ने पाक फौज पर हमला बोल दिया था। 1965 की जंग के बाद यह दूसरा मौका था, जब दोनों देशों की फौजें आमने-सामने थीं। पाकिस्तान से अलग होकर बांग्लादेश की आजादी के लिए भारतीय फौज ने अमेरिका की धमकी को भी नजरअंदाज कर दिया था। अमेरिका ने बंगाल की खाड़ी में अपनी नौसेना का 7वां बेड़ा भारत को डराने के लिए तैनात कर दिया था।

भारत ने क्यों लड़ी बांग्लादेश की लड़ाई 
भारत-पाकिस्तान के बीच 1971 का युद्ध बांग्लादेश लिबरेशन वॉर के रूप में शुरू हुआ था। भारत-पाकिस्तान बंटवारे के बाद पाकिस्तान पूर्वी और पश्चिमी हिस्सों में बंट गया था। पूर्वी हिस्से (आज का बांग्लादेश) को पश्चिम में बैठी केंद्र सरकार अपने तरीके से चला रही थी। उन पर भाषाई और सांस्कृतिक पांबदियां थोप दी गई थीं। इस कारण पूर्वी पाकिस्तान में विरोध प्रदर्शन होने लगे थे। प्रदर्शनकारियों ने तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी से मदद मांगी। अत: इंदिरा गांधी ने वहां सैनिक आॅपरेशन के आदेश दिए। 

2 लाख महिलाओं का रेप किया था पाकिस्तानी आर्मी ने 
इस दौरान पूर्वी पाकिस्तानी अवामी लीग के बड़े नेता जैसे शेख मुजीर्बुर रहमान आदि को गिरफ्तार कर लिया गया। जानकारी के मुताबिक, पाकिस्तानी सेना द्वारा लगभग दो लाख महिलाओं के साथ बलात्कार किया गया था। करीब 20 से 30 लाख लोग मारे गए थे। करीब 80 से एक करोड़ लोगों ने भागकर भारत में शरण ली थी।

मात्र 13 दिन में आजाद करा दिया था पाकिस्तान 
13 दिनों तक चले युद्ध के बाद पाकिस्तानी सेना से 16 दिसंबर को हथियार डाल दिए। भारतीय फौज ने करीब 90 हजार पाक सैनिकों को बंदी बना लिया था। इसे सबसे कम समय तक चले युद्ध के तौर पर भी देखा जाता है।
;

No comments:

Popular News This Week