बिहार में 500 महादलितों ने किया धर्मांतरण, ईसाई बने - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

बिहार में 500 महादलितों ने किया धर्मांतरण, ईसाई बने

Wednesday, August 24, 2016

;
नईदिल्ली। बिहार राज्य के बक्सर जिले में स्थित चौंगाई गांव में 500 हिन्दुओं ने अपना धर्म बदल लिया है। अब वो ईसाई बन गए हैं। ये सभी महादलित वर्ग से हैं। धर्मांतरण से पहले ईसाई धर्मगुरुओं ने उन्हें बेहतर जिंदगी का भरोसा दिलाया। कहा जा रहा है कि यह लालच में कराया गया धर्मांतरण है। जबकि एक अन्य वर्ग का कहना है कि यह सरकारी बिफलता के कारण पैदा हुए हालातों के चलते हुआ धर्मांतरण है और इसके लिए सरकार दोषी है। जिलाधिकारी रमण कुमार ने कहा कि इसकी जानकारी उन्हें नहीं थी। मामले की जांच कराई जाएगी।

चौगाई के महादलित मुहल्ले में मुसहर बिरादरी के सौ परिवार रहते हैं। इनकी आबादी एक हजार के करीब है। आर्थिक व शैक्षणिक रूप से पिछड़े इन परिवारों के पांच सौ लोग पिछले चार माह के भीतर ईसाई धर्म अपना चुके हैं। अब यह मामला विवादों में आ गया है। कहा जा रहा है कि महादलितों को लालच और दवाब में ईसाई बनाया जा रहा है। 

ईसाई धर्म स्वीकार करने वाले गांव के योगेंद्र मुसहर ने बताया कि मोहल्ले के सभी महादलित मोती मुसहर को नेता मानते हैं। पहले मोती ने ईसाई धर्म स्वीकार किया। नौवीं तक पढ़े मोती ने कहा कि कुछ साल पहले उसका परिवार बीमारी को लेकर परेशान था। ओझा-गुनी भूत-प्रेत का साया बता रहे थे। उससे किसी ने कहा कि पास के अरियांव गांव में कुछ ईसाई रविवार को आते हैं और प्रार्थना कराते हैं। इसके बाद सब कुछ ठीक हो जाता है। मोती का कहना है कि नया धर्म अपनाने पर उसे अंधविश्वास से छुटकारा मिला और परिवार में भी सबकुछ ठीक हो गया। इसके बाद वह कई महादलितों के धर्म परिवर्तन का माध्यम बना।

शुक्रवार और शनिवार को लगता है धर्मांतरण शिविर
ईसाई बने महादलितों में हीरालाल, कर्ण, नन्हकी देवी एवं फूलकुमारी देवी ने बताया कि प्रत्येक शुक्रवार एवं शनिवार को नावानगर प्रखंड के सोनवर्षा व रोहतास जिले से ईसाई धर्मगुरु यहां आते हैं। वे लोग अब इस धर्म को मान चुके हैं और बच्चों के शादी-विवाह भी इसी धर्म में करेंगे।
;

No comments:

Popular News This Week