छात्रा को निर्वस्त्र कर रिकार्डिंग की, फिर रेप और गैंगरेप किया

Friday, July 29, 2016

झारखंड। राज्य को शर्मसार कर देने वाली घटना हुई है। 4 बदमाशों ने अपने मित्र के साथ जा रही छात्रा को बंधक बना लिया। मित्र तो पीटा, उसे बांध दिया, फिर छात्रा को निर्वस्त्र कर वीडियो बनाया। फिर एक बदमाश ने रेप किया और वीडियो बनाया। इसके बाद निर्वस्त्र हाल में घसीटकर जंगल में ले गए और चारों ने गैंगरेप किया। मामले का खुलासा हुआ तो पब्लिक भड़क गई। चक्काजाम कर दिया गया। पुलिस को 72 घंटे का अल्टीमेटम दिया गया है। आदिवासी समाज का कहना है कि यदि पुलिस कार्रवाई नहीं कर पाई तो वो अपने तरीके से कार्रवाई करेंगे। 

बताया जाता है कि सभी आरोपी युवक बेंगाबाद थाना क्षेत्र के सोनबाद के रहनेवाले हैं। गुरुवार को इस मामले को लेकर दिनभर हंगामा हुआ। संदेह पर सोनबाद के एक युवक की जमकर पिटाई की गई। उसे तब छोड़ा गया, जब पीड़िता ने उसकी पहचान नहीं की।

इसके बाद सोनबाद के लोगों ने भी निर्दोष की पिटाई के विरोध में सड़क जाम कर दी। आदिवासी समाज ने आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए 72 घंटे का अल्टीमेटम पुलिस को दिया है। अगर आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई, तो आदिवासी समाज द्वारा सभी आरोपियों को खोजकर निकाला जाएगा और दंडित किया जाएगा। 

पीड़िता गिरिडीह के एक कॉलेज में पढ़ती है। उसकी उम्र लगभग 17 साल है। वह स्थानीय आदिवासी छात्रावास में रहती है। पीड़िता ने बताया कि कि बुधवार को वह दोस्त भेलवाघाटी थाना क्षेत्र के रमनी के प्रेम सुंदर मरांडी के साथ कॉलेज स्थित छात्रावास गई थी। छात्रावास से वह उसी के साथ बाइक पर पचंबा की ओर जा रही थी। तभी दोपहर 1.30 बजे पीछे से बाइक पर चार युवकों ने उन्हे घेर लिया। युवकों ने उन्हें पकड़ लिया तथा प्रेम सुंदर मरांडी के साथ बेरहमी से मारपीट की। फिर युवती को जबरन निर्वस्त्र करने लगे। इस दौरान वीडियो रिकार्डिंग शुरू कर दी। उसे निवस्त्र करने के बाद बदमाशों ने साथी युवक पर उसके साथ संबंध बनाने का दबाव बनाया। युवक ने हर हाल में इंकार कर दिया तो हमलावरों में से एक बदमाश ने उसका रेप किया। चारों हमलावरों ने ने उसके दोस्त को बांध दिया और उसे जंगल की ओर घसीटकर ले गए तथा जंगल में चारों ने दुष्कर्म किया।

दरिंदगी के बाद हमलावरों ने धमकी दी कि यदि इसके बारे में किसी को भी बताया तो वीडियो इंटरनेट पर वायरल कर देंगे। उसे सारी दुनिया में बदनाम कर देंगे। डरी सहमी पीड़ित काफी समय तक चुप रही। जब हॉस्टल की साथी छात्राओं ने हिम्मत दिलाई तो उसने घटना के बारे में बताया। 

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week